Tuesday, 19 April 2016

जानिए अनार खाने के बहुत से फायदे हिंदी में

So many advantages of eating pomegranates in Hindi


अनार खाने के बहुत सारे फायदे हैं। यह स्वादिष्ट भी होता है। इसमें विटामिन ए, सी, ई, और फोलिक एसिड के अलावा भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। अनार का हर एक छोटा दाना कई गुणों से भरपूर होता है। अनार कई बीमारियों की एक दवा है। यह पेट की समस्याओं व घबराहट को दूर करने वाला है। अनार स्वरतंत्र, फेफड़े, यकृत, दिल, आमाशय और आंतों के रोगों में काफी लाभकारी है। अनार में एंटीवायरल और एंटी-ट्यूमर जैसे तत्व भी पाए जाते हैं। सिर्फ अनार का फल ही नहीं, इसका पूरा पौधा ही बहुत उपयोगी है। अनार के छिलके जिन्हें अनुपयोगी जानकर लोग फेंक देते हैं वे भी बहुत लाभकारी होते हैं। आइए, जानते हैं अनार और उसके छिलके के उपयोग के बारे मे.

  • अनार दिल से संबंधित रोगों और पेट के रोगों में लाभदायक है। अनार के छिलके का पाउडर एक चम्मच ठंडे पानी से लें। इससे पेट दर्द में राहत मिलती है।
  • डायजेस्टिव सिस्टम की सभी समस्याओं के निदान में अनार कारगर है। अनार की छाल या इसकी पत्तियों का पाउडर बनाकर लेने से डायजेस्टिव सिस्टम से जुड़ी समस्याएं खत्म हो जाती हैं।
  • सूखे अनार के छिलकों का चूर्ण दिन में 2-3 बार एक-एक चम्मच पानी के साथ लेने से बार-बार पेशाब आने की समस्या ठीक हो जाती है।
  • अनार के छिलकों के चूर्ण का सुबह-शाम एक-एक चम्मच सेवन करने से बवासीर ठीक हो जाता है।
  • खांसी में अनार के छिलके को मुंह में रखकर उसे धीरे-धीरे चूसना शुरू कर दें। खांसी में तुरंत आराम मिलेगा।
  • अनार के छिलकों को पानी में उबालकर, उससे कुल्ला करने से मुंह की दुर्गंंध दूर हो जाती है।
  • जिन महिलाओं को अधिक मासिक स्राव होता है, वे अनार के सूखे छिलके को पीसकर एक चम्मच पानी के साथ लें। इससे रक्त स्राव कम होगा और राहत मिलेगी।
  • अनार को बारीक पीसकर उसमें दही मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बनाकर बालों पर लगाएं। एक घंटे बाद सिर धो लें। इससे बाल मुलायम होते हैं।
  • एथेरॉसक्लेरॉसिस की समस्या में अनार एक बेहतरीन दवा की तरह काम करता है। बढ़ती उम्र और गलत खानपान से ब्लड वैसेल्स की दीवार
  • कोलेस्ट्रॉल व अन्य चीजों से कठोर हो जाती है। इससे ब्लड सर्कुलेशन में अवरोध पैदा होता है। अनार का एंटीऑक्सीडेंट गुण कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन और कोलेस्ट्रॉल को ऑक्सीडाइजिंग से रोकता है। अनार रक्तवाहिनी की दीवार को एक्स्ट्रा फैट से कठोर होने से बचाता है।
  • कोलेस्ट्रॉल या दिल के रोगियों के लिए अनार रामबाण की तरह काम करता है। खून दो तरह से जमता हैं। पहला तो कटने या जलने की स्थिति में खून जमता है, जिससे खून का बहाव रुक जाता है। वहीं, दूसरे तरह का खून आंतरिक रूप से जमता है, जो बहुत ही खतरनाक होता है। मसलन हृदय या धमनी में खून जम जाने से इसका परिणाम घातक भी हो सकता है। अनार में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण खून के लिए वही काम करता है, जो पेट के लिए थिनर करता है। यह शरीर में खून जमने या थक्का बनने से रोकता है।
  • एक अध्ययन से यह साबित हुआ है कि अनार के नियमित सेवन से डीएनए ऑक्सीडेशन की प्रक्रिया धीमी पड़ सकती है। इसका मुख्य कारण इसमें उपस्थित एंटीआक्सीडेंट हैं।
  •  कहा गया है कि उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को जंग लगने या आक्सिडाइजिंग अथवा नुकसान पहुंचने की प्रक्रिया के तौर पर देखा जा सकता है। इस प्रक्रिया को धीमा करने में अनार काफी मदद करता है।
  • अनार की पत्तियों की चाय बनाकर पीने से पाचन संबंधी समस्याओं में बहुत आराम मिलता है। दस्त और कॉलरा जैसी बीमारियों में अनार का जूस पीने से राहत मिलती है। डायबिटीज के रोगियों को अनार खाने की सलाह दी जाती है इससे कॉरोनरी रोगों का खतरा कम होता है


0 comments:

Post a Comment