Sunday, 31 May 2015

All About our Earth In Hindi GK

All About our Earth
Surface Area : 510,100,500 Sq.Kms.
Land Surface : 148,950,800 Sq.Kms.(29.08%)
Water Surface : 361,149,700 Sq.Kms.(70.92%)
Equatorial circumference : 40,075 Kms.
Polar circumference : 40,008 Kms
Equatorial radius : 6,377 Kms.
Equatorial Diameter : 1,22,756 Kms.
Polar radius : 6,357 Kms.
Polar Diameter : 12,714 Kms.
Mean distance from the Sun : 14,95,97,900 Kms.
Period of revolution : 365 days 5 hours 48 mts.45.51 Sec.
Period of rotation : 23 hrs. 56 mts. 4.091 Sec.
Escape Velocity fromthe earth : 11 Km per Sec. (minimum)


हमारे सभी पृथ्वी के बारे में
सतह क्षेत्र: 510,100,500 वर्ग किमी।
भूमि की सतह: 148,950,800 वर्ग किमी (29.08%)।
जल सतह: 361,149,700 वर्ग किमी (70.92%)।
इक्वेटोरियल परिधि: 40,075 किलोमीटर।
ध्रुवीय परिधि: 40,008 कि.मी.
इक्वेटोरियल त्रिज्या: 6377 किलोमीटर।
इक्वेटोरियल व्यास: 1,22,756 किलोमीटर।
ध्रुवीय त्रिज्या: 6357 किलोमीटर।
ध्रुवीय व्यास: 12,714 किलोमीटर।
14,95,97,900 किलोमीटर: सूर्य से दूरी मतलब।
क्रांति की अवधि: 365 दिन 5 घंटे 48 mts.45.51 सेक।
रोटेशन की अवधि: 23 बजे। 56 लाख टन। 4.091 सेकंड।
प्रति सेकंड 11 किलोमीटर: वेग पृथ्वी fromthe भाग जाते हैं। (न्यूनतम)

Interesting Geography Hindi GK

पोस्टल सागरों की भूमि - दक्षिण पश्चिम एशिया
झीलों की भूमि - स्कॉटलैंड
गोल्डन शिवालय की भूमि - म्यांमार
कंगारू की भूमि - ऑस्ट्रेलिया
स्वर्ण ऊन की भूमि - ऑस्ट्रेलिया
लिली की भूमि - कनाडा
मेपल की भूमि - कनाडा
आधी रात सूरज के देश - नॉर्वे
सुबह की शांति की भूमि - कोरिया
राइजिंग सन के देश - जापान
सूरज की स्थापना की भूमि - यूनाइटेड किंगडम
हजार हाथियों की भूमि - लाओस
हजार झीलों की भूमि - फिनलैंड
भूटान - वज्र की भूमि
सफेद हाथी की भूमि - थाईलैंड



Land of Five Seas - South West Asia
Land of Lakes - Scotland
Land of Golden Pagoda - Myanmar
Land of Kangaroo - Australia
Land of Golden Fleece - Australia
Land of Lilies - Canada
Land of Maple - Canada
Land of Midnight Sun - Norway
Land of Morning Calm - Korea
Land of Rising Sun - Japan
Land of Setting Sun - United Kingdom
Land of Thousand Elephants - Laos
Land of Thousand Lakes - Finland
Land of Thunderbolt - Bhutan
Land of White Elephant - Thailand


Facts of cities in Hindi GK

City of Dreaming Spires - Oxford (England)
City of Eternal Springs - Quito ( South America)
City of Flowers - Cape Town ( south Africa)
City of Golden Gate - San Francisco (USA)
City of Magnificent Buildings - Washington (USA)
City of Seven Hills - Rome (Italy)
City of Skyscrapers - New York (USA)


सपना शिखर के सिटी - ऑक्सफोर्ड (इंग्लैंड)
अनन्त स्प्रिंग्स के सिटी - क्विटो (दक्षिण अमेरिका)
फूलों की सिटी - केप टाउन (दक्षिण अफ़्रीका)
गोल्डन गेट के सिटी - सैन फ्रांसिस्को (यूएसए)
शानदार इमारतों के शहर - वाशिंगटन (यूएसए)
सात पहाड़ियों के सिटी - रोम (इटली)
गगनचुंबी इमारतों के शहर - न्यूयॉर्क (यूएसए)

Geography short hindi General knowledge

ग्रेनाइट सिटी - एबरडीन
हैंगिंग घाटियों - स्विट्जरलैंड की घाटी
साधु किंगडम - कोरिया
मछली तालाब - अटलांटिक महासागर
पवित्र भूमि - फिलिस्तीन
पृथ्वी के मानव भूमध्य रेखा - हिमालय
द्वीप महाद्वीप - ऑस्ट्रेलिया
लौंग के द्वीप - जंजीबार
मोती के द्वीप - बहरीन (फारस की खाड़ी)
धूप के द्वीप - वेस्ट इंडीज
यूरोप की कश्मीर - स्विटज़रलैंड

Granite City - Aberdeen
Hanging Valleys - Valley of Switzerland
Hermit Kingdom - Korea
Herring Pond - Atlantic Ocean
Holy Land - Palestine
Human Equator of the Earth - Himalayas
Island Continent - Australia
Island of Cloves - Zanzibar
Island of Pearls - Bahrain (Persian Gulf)
Islands of Sunshine - West Indies
Kashmir of Europe - Switzerland

Interesting facts about animal

लंबा पशु - जिराफ
अल्पावधि में सबसे तेजी से पशु - चीता
सबसे तेजी से पशु - परदेशी बाज़
सबसे बड़ा भूमि पशु मौजूदा - हाथी
सबसे बुद्धिमान पशु - चिम्पांजी
सबसे चालाक पशु - फॉक्स
सबसे बड़ा समुद्री पशु - ब्लू व्हेल


Tall Animal -- Giraffe
Fastest Animal at short run -- Cheetah
Fastest Animal -- Peregrine Falcon
Largest existing Land animal -- Elephant
Most Intelligent Animal -- Chimpanzee
Most Cunning Animal -- Fox
Largest Sea Animal -- Blue Whale

Do you know Meaning of these Words ?

Do you know Meaning of these Words:
♦ NEWS = North East West South
♦ CHESS = Chariot,Horse, Elephant, Soldiers
♦ COLD = chronic Obstructive Lung Disease
♦ JOKE = Joy of Kids Entertainment
♦ AIM = Ambition in Mind
♦ DATE = Day and Time Evolution
♦ EAT = Energy And Taste
♦ TEA = Taste And Energy

Know Computer memory size

1 Bit = Binary Digit
8 Bits = 1 Byte
1024 Bytes = 1 Kilobyte
1024 Kilobytes = 1 Megabyte
1024 Megabytes = 1 Gigabyte
1024 Gigabytes = 1 Terabyte
1024 Terabytes = 1 Petabyte
1024 Petabytes = 1 Exabyte
1024 Exabytes = 1 Zettabyte
1024 Zettabytes = 1 Yottabyte
1024Yottabytes = 1 Brontobyte
1024 Brontobytes = 1 Geopbyte
1024 Geopbyte =1 Saganbyte
1024 Saganbyte  =1 Pijabyte

TOP 10 WEBSITES Launched date

TOP 10 WEBSITES & Date Launched  !!!
* Google : Sept 4, 1998
* Facebook : Feb 4, 2004
* YouTube : Feb 14, 2005
* Yahoo ! : March 1994
* Baidu : Jan 1, 2000
* Wikipedia : Jan 15, 2001
* Windows Live : Nov 1, 2005
* Amazon.com : 1994
* Tencent QQ : February 1999
* Twitter : March 21, 2006



टॉप 10 वेबसाइटों और किस तारीख शुरू !!!
* गूगल: 4 सितम्बर 1998
* फेसबुक: 4 फ़रवरी 2004
* यूट्यूब: फ़रवरी 14, 2005
* याहू! : मार्च 1994
* Baidu: 1 जनवरी 2000
* विकिपीडिया: 15 जनवरी 2001
* विंडोज लाइव: 1 नवंबर 2005
* Amazon.com: 1994
* Tencent QQ: फ़रवरी 1999
* चहचहाना: 21 मार्च 2006

Father of Nation List

1. Afghanistan —Ahmad Shah Durrani
2. Argentina—Don José de San Martín
3. Australia— Sir Henry Parkes
4. Bahamas —Sir Lynden Pindling
5. Bangladesh— Sheikh Mujibur Rahman
6. Bolivia —Simón Bolívar
7. Brazil —Dom Pedro I andJosé Bonifácio de Andrada e Silva
8. Burma— Aung San
9. Cambodia— Norodom Sihanouk
10. Chile— Bernardo O'Higgins
11. Republic of China— Sun Yat-sen
12. Colombia —Simón Bolívar
13. Sweden— Gustav I of Sweden
14. Croatia— Ante Starčević
15. Cuba —Carlos Manuel de Céspedes
16. Dominican Republic— Juan Pablo Duarte
17. Ecuador— Simón Bolívar
18. Ghana— Kwame Nkrumah
19. Guyana— Cheddi Jagan
20. Haiti —Jean-Jacques Dessalines
21. India— Mohandas Karamchand Gandhi
22. Indonesia —Sukarno
23. Iran —Cyrus the Great
24. Israel —Theodor Herzl
25. Italy —Victor Emmanuel II
26. Kenya —Jomo Kenyatta
27. Republic of Korea— Kim Gu
28. Kosovo —Ibrahim Rugova
29. Lithuania— Jonas Basanavičius
30. Macedonia— Krste Misirkov
31. Malaysia—Tunku Abdul Rahman
32. Mauritius —Sir Seewoosagur Ramgoolam
33. Mexico —Miguel Hidalgo y Costilla
34. Mongolia Genghis Khan
35. Namibia— Sam Nujoma
36. Netherlands— William the Silent
37. Norway— Einar Gerhardsen
38. Pakistan— Mohammad Ali Jinnah
39. Panama— Simón Bolívar
40. Peru —Don José de San Martín
41. Portugal —Dom Afonso Henriques
42. Russia —Peter I of Russia
43. Saudi Arabia— Ibn Saud of Saudi Arabia
44. Scotland —Donald Dewar
45. Serbia —Dobrica Ćosić
46. Singapore— Lee Kuan Yew
47. Slovenia— Primož Trubar
48. South Africa— Nelson Mandela
49. Spain —Fernando el Católico
50. Sri Lanka— Don Stephen Senanayake
51. Suriname— Johan Ferrier
52. Tanzania —Julius Nyerere
53. Turkey— Mustafa Kemal Atatürk
54. United Arab Emirates— Sheikh Zayed bin Sultan Al Nahyan
55. United States— George Washington
56. Uruguay— José Gervasio Artigas
57. Venezuela— Simón Bolívar
58. Vietnam —Ho Chi Minh



1. अफगानिस्तान -Ahmad शाह दुर्रानी
2. अर्जेंटीना डॉन जोस डे सैन मार्टिन
3. ऑस्ट्रेलिया सर हेनरी पार्क्स
4. बहामा -Sir Lynden Pindling
5. बांग्लादेश शेख मुजीबुर रहमान
6. बोलीविया -Simón बोलिवर
7. ब्राजील -Dom पेड्रो मैं andJosé Bonifacio डे Andrada ई सिल्वा
8. Burma- आंग सान
9. Cambodia- Norodom Sihanouk
10 Chile- Bernardo O'Higgins
चीन सन यात-सेन 11. गणराज्य
12. कोलम्बिया -Simón बोलिवर
स्वीडन की 13 Sweden- गुस्ताव मैं
14. Croatia- पूर्व Starčević
15. क्यूबा -Carlos मैनुअल डी Céspedes
16. डोमिनिकन Republic- जुआन पाब्लो ड्यूआर्टे
17. Ecuador- सिमोन बोलिवार
18. Ghana- क्वामे नूरुमाह
19. Guyana- Cheddi जगन
20. हैती -Jean जेक्स Dessalines
21. भारत मोहनदास करमचंद गांधी
22. इंडोनेशिया -Sukarno
23. ईरान -Cyrus ग्रेट
24. इसराइल -Theodor Herzl
25. इटली -Victor Emmanuel द्वितीय
26. केन्या -Jomo Kenyatta
Korea- किम गुजरात के 27. गणराज्य
28. कोसोवो -Ibrahim Rugova
29. Lithuania- जोनास Basanavičius
30. Macedonia- Krste Misirkov
31. मलेशिया-Tunku अब्दुल रहमान
32. मॉरिशस -Sir शिवसागर रामगुलाम
33. मेक्सिको -Miguel हिडाल्गो Y Costilla
34. मंगोलिया चंगेज खान
35. Namibia- सैम Nujoma
36. Netherlands- विलियम मौन
37. Norway- Einar Gerhardsen
38. पाकिस्तान के मोहम्मद अली जिन्ना
39. Panama- सिमोन बोलिवार
40. पेरू -Don जोस डे सैन मार्टिन
41. पुर्तगाल -Dom अफोंसो हेनरिक्स
रूस के 42. रूस -Peter मैं
सऊदी अरब के 43. सऊदी Arabia- इब्न सऊद
44. स्कॉटलैंड -डोनाल्ड देवर
45. सर्बिया -Dobrica Ćosić
46. ​​सिंगापुर ली कुआन यू
47. Slovenia- प्रिमोज़ Trubar
48. दक्षिण अफ्रीका में नेल्सन मंडेला
49. स्पेन -Fernando एल Católico
50. श्री Lanka- डॉन स्टीफन सेनानायके
51. Suriname- जोहान फ़ेरियर
52. तंजानिया -Julius न्येरेरे
53. Turkey- मुस्तफा कमाल अतातुर्क
54. संयुक्त अरब Emirates- शेख जायद बिन सुल्तान अल Nahyan
55. संयुक्त राज्यों जॉर्ज वाशिंगटन
56. Uruguay- जोस गेरवासिओ Artigas
57. Venezuela- सिमोन बोलिवार
58. वियतनाम -Ho ची मिन्ह

New 7 Wonders of the World

विश्व की नई 7 आश्चर्यों
1. ताजमहल - आगरा, उत्तर प्रदेश, भारत (एडी 1632)
2. चिचेन इत्जा - युकाटन मेक्सिको (ई 800)
3. क्राइस्ट द रिडीमर - रियो डी जनेरियो ब्राजील (एडी 1926)
4. कालीज़ीयम - रोम, इटली (ई 70)
चीन के 5. महान दीवार - चीन (ईसा पूर्व 700)
6. माचू पिचू - Cuzco क्षेत्र, पेरू (एडी 1438)
7. पेट्रा -Ma'an प्रशासनिक, जॉर्डन (ईसा पूर्व 312)


New 7 Wonders of the World
1. Taj Mahal — Agra, Uttar Pradesh, India (AD 1632)
2. Chichen Itza — Yucatán Mexico (AD 800)
3. Christ the Redeemer — Rio de Janeiro Brazil (AD 1926)
4. Colosseum — Rome, Italy (AD 70)
5. Great Wall of China — China (BC 700)
6. Machu Picchu — Cuzco Region, Peru (AD 1438)
7. Petra —Ma'an Governorate, Jordan (BC 312)

Top 8 Countries With World’s Fastest Internet

विश्व की तेजी के साथ शीर्ष 8 देशों इंटरनेट!
1. हांगकांग - 65.1Mbps
2. दक्षिण कोरिया - 53.5Mbps
3. जापान - 48.8Mbps
4. रोमानिया - 47.5Mbps
5. सिंगापुर - 45.6Mbps
6. लातविया - 44.6Mbps
7. स्विट्जरलैंड - 41.4Mbps
8. इसराइल - 40.1। एमबीपीएस


Top 8 Countries With World’s Fastest Internet!
1. Hong Kong – 65.1Mbps
2. South Korea – 53.5Mbps
3. Japan – 48.8Mbps
4. Romania – 47.5Mbps
5. Singapore – 45.6Mbps
6. Latvia – 44.6Mbps
7. Switzerland – 41.4Mbps
8. Israel – 40.1. Mbps

LIST OF MISS WORLD (1951-2013)

मिस वर्ल्ड की सूची (1951-2013)
मिस वर्ल्ड 1951 - किकी Haakonson, स्वीडन
मिस वर्ल्ड 1952 - मई लुईस Flodin, स्वीडन
मिस वर्ल्ड 1953 - डेनिस Perrier, फ्रांस
मिस वर्ल्ड 1954 - Antigone Costanda, मिस्र
मिस वर्ल्ड 1955 - कारमेन Zubillaga, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 1956 - पेट्रा SCHURMANN, जर्मनी
मिस वर्ल्ड 1957 - Marita Lindahl, फिनलैंड
मिस वर्ल्ड 1958 - पेनेलोप Coelen, दक्षिण अफ्रीका
मिस वर्ल्ड 1959 - Corine Rottschafer, हॉलैंड
मिस वर्ल्ड 1960 - नोर्मा Cappagli, अर्जेंटीना
मिस वर्ल्ड 1961 - Rosemarie Frankland, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1962 - कैथरिन Lodders, हॉलैंड
मिस वर्ल्ड 1963 - कैरोल क्रॉफर्ड, जमैका
मिस वर्ल्ड 1964 - एन सिडनी, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1965 - लेसली लैंगली, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1966 - Reita फारिया, भारत
मिस वर्ल्ड 1967 - Madeiline Hartog बेल, पेरू
मिस वर्ल्ड 1968 - पेनेलोप Plummer, ऑस्ट्रेलिया
मिस वर्ल्ड 1969 - ईवा Reuber Staier, ऑस्ट्रिया
मिस वर्ल्ड 1970 - जेनिफर Hosten, ग्रेनाडा
मिस वर्ल्ड 1971 - लूसिया Petterle, ब्राजील
मिस वर्ल्ड 1972 - Belina ग्रीन, ऑस्ट्रेलिया
मिस वर्ल्ड 1973 - मार्जोरी वालेस, संयुक्त राज्य अमरीका
मिस वर्ल्ड 1974 - Anneline Kriel, दक्षिण अफ्रीका
मिस वर्ल्ड 1975 - Winelia Merced, प्यूर्टो रिको
मिस वर्ल्ड 1976 - सिंडी Breakspeare, जमैका
मिस वर्ल्ड 1977 - मैरी Stavin, स्वीडन
मिस वर्ल्ड 1978 - Silvana सुआरेज़, अर्जेंटीना
मिस वर्ल्ड 1979 - जीना Swainson, बरमूडा
मिस वर्ल्ड 1980 - किम्बर्ली सैंटोस, गुआम
मिस वर्ल्ड 1981 - Pilin लियोन, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 1982 - Mariasela Lebron, डोमिनिकन गणराज्य
मिस वर्ल्ड 1983 - सारा जेन हट, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1984 - एस्त्रिड हेरेरा, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 1985 - Hofi Karlsdottir, आइसलैंड
मिस वर्ल्ड 1986 - गिजेला LaRonde, त्रिनिदाद
मिस वर्ल्ड 1987 - उल्ला Weigerstorfer, ऑस्ट्रिया
मिस वर्ल्ड 1988 - लिंडा Petursdottir, आइसलैंड
मिस वर्ल्ड 1989 - Andeta Kreglicka, पोलैंड
मिस वर्ल्ड 1990 - जीना मैरी Tolleson, संयुक्त राज्य अमरीका
मिस वर्ल्ड 1991 - Ninebeth Jiminez, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 1992 - जूलिया Kourotchkina, रूस
मिस वर्ल्ड 1993 - लिसा हैना, जमैका
मिस वर्ल्ड 1994 - Aishwariya राय, भारत
मिस वर्ल्ड 1995 - जैकलिन Aquilera, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 1996 - आइरीन Skliva, ग्रीस
मिस वर्ल्ड 1997 - डायना हेडन, भारत
मिस वर्ल्ड 1998 - Linor Abargil, इसराइल
मिस वर्ल्ड 1999 - युक्त Mookhey, भारत
मिस वर्ल्ड 2000 - प्रियंका चोपड़ा, भारत
मिस वर्ल्ड 2001 - Ibiagbanidokibu बो Asenite Darego-नाइजीरिया
मिस वर्ल्ड 2002 - Azra सदृश-तुर्की
मिस वर्ल्ड 2003 - Rosanna डेविडसन, आयरलैंड
मिस वर्ल्ड 2004 - मारिया जुलिया Mantilla गार्सिया, पेरू
मिस वर्ल्ड 2005 - Unnur Birna Vilhjalmsdottir, आइसलैंड
मिस वर्ल्ड 2006 - Tat'ana Kucharova, चेक गणराज्य
मिस वर्ल्ड 2007 - जांग Zhi ली, चीन पीआर
मिस वर्ल्ड 2008 - सेनिया Sukhinova, रूस
मिस वर्ल्ड 2009 - Kaiane Aldorino, जिब्राल्टर
मिस वर्ल्ड 2010 - अलेक्जेंड्रिया मिल्स, संयुक्त राज्य अमरीका
मिस वर्ल्ड 2011 - Ivian Sarcos, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 2012 - वेन ज़िया यू, चीन पीआर
मिस वर्ल्ड 2013 - मेगन यंग, ​​फिलीपींस



LIST OF MISS WORLD (1951-2013)
Miss World 1951 - Kiki Haakonson, Sweden
Miss World 1952 - May Louise Flodin, Sweden
Miss World 1953 - Denise Perrier, France
Miss World 1954 - Antigone Costanda, Egypt
Miss World 1955 - Carmen Zubillaga, Venezuela
Miss World 1956 - Petra Schurmann, Germany
Miss World 1957 - Marita Lindahl, Finland
Miss World 1958 - Penelope Coelen, South Africa
Miss World 1959 - Corine Rottschafer, Holland
Miss World 1960 - Norma Cappagli, Argentina
Miss World 1961 - Rosemarie Frankland, United Kingdom
Miss World 1962 - Catharine Lodders, Holland
Miss World 1963 - Carole Crawford, Jamaica
Miss World 1964 - Ann Sidney, United Kingdom
Miss World 1965 - Lesley Langley, United Kingdom
Miss World 1966 - Reita Faria, India
Miss World 1967 - Madeiline Hartog Bel, Peru
Miss World 1968 - Penelope Plummer, Australia
Miss World 1969 - Eva Reuber Staier, Austria
Miss World 1970 - Jennifer Hosten, Grenada
Miss World 1971 - Lucia Petterle, Brazil
Miss World 1972 - Belina Green, Australia
Miss World 1973 - Marjorie Wallace, USA
Miss World 1974 - Anneline Kriel, South Africa
Miss World 1975 - Winelia Merced, Puerto Rico
Miss World 1976 - Cindy Breakspeare, Jamaica
Miss World 1977 - Mary Stavin, Sweden
Miss World 1978 - Silvana Suarez, Argentina
Miss World 1979 - Gina Swainson, Bermuda
Miss World 1980 - Kimberly Santos, Guam
Miss World 1981 - Pilin Leon, Venezuela
Miss World 1982 - Mariasela Lebron, Dominican Republic
Miss World 1983 - Sarah Jane Hutt, United Kingdom
Miss World 1984 - Astrid Herrera, Venezuela
Miss World 1985 - Hofi Karlsdottir, Iceland
Miss World 1986 - Giselle Laronde, Trinidad
Miss World 1987 - Ulla Weigerstorfer, Austria
Miss World 1988 - Linda Petursdottir, Iceland
Miss World 1989 - Andeta Kreglicka, Poland
Miss World 1990 - Gina Marie Tolleson, USA
Miss World 1991 - Ninebeth Jiminez, Venezuela
Miss World 1992 - Julia Kourotchkina, Russia
Miss World 1993 - Lisa Hanna, Jamaica
Miss World 1994 - Aishwariya Rai, India
Miss World 1995 - Jacqueline Aquilera, Venezuela
Miss World 1996 - Irene Skliva ,Greece
Miss World 1997 - Diana Hayden, India
Miss World 1998 - Linor Abargil, Israel
Miss World 1999 - Yukta Mookhey, India
Miss World 2000 - Priyanka Chopra, India
Miss World 2001 - Ibiagbanidokibu bo Asenite Darego—Nigeria
Miss World 2002 - Azra Akin—Turkey
Miss World 2003 - Rosanna Davidson, Ireland
Miss World 2004 - Maria Julia Mantilla Garcia, Peru
Miss World 2005 - Unnur Birna Vilhjalmsdottir , Iceland
Miss World 2006 - Tat’ana Kucharova, Czech Republic
Miss World 2007 - Zhang Zhi Li, China PR
Miss World 2008 - Ksenia Sukhinova, Russia
Miss World 2009 - Kaiane Aldorino, Gibraltar
Miss World 2010 - Alexandria Mills, USA
Miss World 2011 - Ivian Sarcos, Venezuela
Miss World 2012 - Wen Xia Yu, China PR
Miss World 2013 - Megan Young, Philippines

Proud to be an Indian

Did you know :

  • India never invaded any country in last 100000 years of history
  • Chess was invented in India
  • India has the largest number of post offices in the world
  • The largest employer in india is Indian Railways, over 1 million employees
  • India exports software to 90 countries
  • Algebra, Trigonometric & Calculus were originated in India
  • Indian National Kabaddi Team has won all the World Cups
  • May 26 is celebrated as science day in Switzerland in honour of APJ Kalam who visited Switzerland on that day
  • India has the second largest English speaking population in the world
  • India is the world's largest democracy with 1.2 billion voters
  • The most number of movies are made in india, approx 1000 every year
  • Besides the US and Japan, India is the only country to have indegionously built a super computer
  • The second largest number of scientists and engineers are in india
  • Until 1896 India was the only source for Diamonds

*** Proud to be an Indian ***

Saturday, 23 May 2015

India's national symbol

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक:-
भारत का राष्ट्रीय चिह्न सारनाथ स्थित अशोक स्तंभ की अनुकृति है जो सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है। भारत सरकार ने यह चिह्न २६ जनवरी १९५० को अपनाया। उसमें केवल तीन सिंह दिखाई पड़ते हैं, चौथा सिंह दृष्टिगोचर नहीं है। राष्ट्रीय चिह्न के नीचे देवनागरी लिपि में 'सत्यमेव जयते' अंकित है।
भारत के राष्ट्रीय झंडे में तीन समांतर आयताकार पट्टियाँ हैं। ऊपर की पट्टी केसरिया रंग की, मध्य की पट्टी सफेद रंग की तथा नीचे की पट्टी गहरे हरे रंग की है। झंडे की लंबाई चौड़ाई का अनुपात 3:2 का है। सफेद पट्टी पर चर्खे की जगह सारनाथ के सिंह स्तंभ वाले धर्मचक्र की अनुकृति है जिसका रंग गहरा नीला है। चक्र का व्यास लगभग सफेद पट्टी के चौड़ाई जितना है और उसमें २४ अरे हैं।
कवि रवींद्रनाथ ठाकुर द्वारा लिखित 'जन-गण-मन' के प्रथम अंश को भारत के राष्ट्रीय गान के रूप में २४ जनवरी १९५० ई. को अपनाया गया। साथ साथ यह भी निर्णय किया गया कि बंकिमचंद्र चटर्जी द्वारा लिखित 'वंदे मातरम्' को भी 'जन-गण-मन' के समान ही दर्जा दिया जाएगा, क्योंकि स्वतंत्रता संग्राम में 'वंदे मातरम्' गान जनता का प्रेरणास्रोत था।
भारत सरकार ने देश भर के लिए राष्ट्रीय पंचांग के रूप में शक संवत् को अपनाया है। इसका प्रथम मास 'चैत' है और वर्ष सामान्यत: ३६५ दिन का है। इस पंचांग के दिन स्थायी रूप से अंग्रेजी पंचांग के मास दिनों के अनुरूप बैठते हैं। सरकारी कार्यो के लिए ग्रेगरी कैलेंडर (अंग्रेजी कैलेंडर) के साथ साथ राष्ट्रीय पंचांग का भी प्रयोग किया जाता है।

Know about Nightingale ( BULBUL ) in hindi

बुलबुल:-
बुलबुल, शाखाशायी गण के पिकनोनॉटिडी कुल (Pycnonotidae) का पक्षी है और प्रसिद्ध गायक पक्षी "बुलबुल हजारदास्ताँ" से एकदम भिन्न है। ये कीड़े-मकोड़े और फल फूल खानेवाले पक्षी होते हैं। ये पक्षी अपनी मीठी बोली के लिए नहीं, बल्कि लड़ने की आदत के कारण शौकीनों द्वारा पाले जाते रहे हैं। यह उल्लेखनीय है कि केवल नर बुलबुल ही गाता है, मादा बुलबुल नहीं गा पाती है। बुलबुल कलछौंह भूरे मटमैले या गंदे पीले और हरे रंग के होते हैं और अपने पतले शरीर, लंबी दुम और उठी हुई चोटी के कारण बड़ी सरलता से पहचान लिए जाते हैं। विश्व भर में बुलबुल की कुल ९७०० प्रजातियां पायी जाती हैं। इनकी कई जातियाँ भारत में पायी जाती हैं, जिनमें "गुलदुम बुलबुल" सबसे प्रसिद्ध है। इसे लोग लड़ाने के लिए पालते हैं और पिंजड़े में नहीं, बल्कि लोहे के एक (अंग्रेज़ी अक्षर -टी) (T) आकार के चक्कस पर बिठाए रहते हैं। इनके पेट में एक पेटी बाँध दी जाती है, जो एक लंबी डोरी के सहारे चक्कस में बँधी रहती है।
प्रजातियाँ
कई वनीय प्रजातियों को ग्रीनबुल भी कहा जाता है। इनके कुल मुख्यतः अफ़्रीका के अधिकांश भाग तथा मध्य पूर्व, उष्णकटिबंधीय एशिया से इंडोनेशिया और उत्तर में जापान तक पाये जाते हैं। कुछ अलग-थल प्रजातियाँ हिंद महासागर के उष्णकटिबंधीय द्वीपों पर मिलती हैं। इसकी लगभग १३० प्रजातियाँ, २४ जेनेरा में बँटी हुई मिलती हैं। कुछ प्रजातियाँ अधिकांश आवासों में मिलती हैं। लगभग सभी अफ़्रीकी प्रजातियाँ वर्षावनों में मिलती हैं। ये विशेष प्रजातियाँ एशिया में नगण्य हैं। यहाँ के बुलबुल खुले स्थानों में रहना पसन्द करते हैं। यूरोप में बुलबुल की एकमात्र प्रजाति साइक्लेड्स में मिलती है, जिसके ऊपर एक पीला धब्बा होता है, जबकि अन्य प्रजातियों में स्नफ़ी भूरा होता है। भारत में पाई जानेवाली बुलबुल की कुछ प्रसिद्ध जातियाँ निम्नलिखित हैं :
1- गुलदुम (red vented) बुलबुल,
2- सिपाही (red whiskered) बुलबुल,
3- मछरिया (white browed) बुलबुल,
4- पीला (yellow browed) बुलबुल तथा
5- काँगड़ा (whit checked) बुलबुल।

Ashfaq ullah Khan Early life

Ashfaq ullah Khan Early life:-
Ashfaq ullah Khan was born on 22 October 1900 in Shahjahanpur, a historical city of Uttar Pradesh. His father, Shafiq Ullah Khan belonged to a Pathan family who was famous for military background. His maternal side was more knowledgeable where so many members had served in the police and administrative services of British India. His mother Mazhoor-Un-Nisa Begum was an extremely pious lady. Ashfaq ullah was the youngest amongst all his four brothers. His elder brother Riyasat Ullah Khan was a class mate of Pandit Ram Prasad Bismil. When Bismil was declared absconder after the Mainpuri Conspiracy, Riyasat used to tell his younger brother Ashafaq about the bravery and shayari Urdu poetry of Bismil. Since then Ashfaq was very keen to meet Bismil, because of his poetic attitude. In 1920, when Bismil came to Shahjahanpur and engaged himself in business Ashfaq tried so many times to contact him but Bismil paid no attention.
In 1922, when Non-cooperation movement started and Bismil organised meetings in Shahjahanpur to tell the public about the movement, Ashfaq ullah met him in a public meeting and introduced himself as a younger brother of his class mate. He also told Bismil that he wrote poems under the pen-names of 'Warsi' and 'Hasrat'. Bismil listened to some of his couplets in a private get- together at Shahjahanpur and since then they became good friends. Ashfaq often wrote something and showed it to Bismil who immediately corrected or improved the same. Thus a very good poetic alignment between Ashfaq and Bismil developed and it was so familiar that whosoever listened to them in any of the poetic conferences called Mushaira in Urdu language was overwhelmed with surprise.He was born in Uttar Pradesh in Shanjahanpur.
Friendship with Bismil:-
When Mahatma Gandhi withdrew the Non-Cooperation Movement after the Chauri Chaura incident in 1922, so many Indian youths were left dejected. Ashfaq was also one of them. He felt that India should become free as soon as possible and so he decided to join the revolutionaries and also win the friendship of Pandit Ram Prasad Bismil, a famous revolutionary of Shahjahanpur.
Pandit Ram Prasad Bismil, an active member of Arya Samaj, never bore in mind any prejudice against any religious community. This was the only reason behind it that won the heart of Ashfaq and he became a confident friend of Bismil.Ashfaq was a devout Muslim and together with "Bismil" had the common objective of a free and united India. They sacrificed their lives on the same day of 19 December 1927 as martyrs for India, but in different jails of Faizabad and Gorakhpur.

Know about Bhagat Singh in Hindi

भगत सिंह:-
(२८ सितम्बर १९०७ से २३ मार्च १९३१)
जन्मस्थल : गाँव बंगा, जिला लायलपुर, पंजाब (अब पाकिस्तान में)
मृत्युस्थल: लाहौर जेल, पंजाब (अब पाकिस्तान में)
आन्दोलन: भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम
प्रमुख संगठन: नौजवान भारत सभा, हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन ऐसोसियेशन, अभिनव भारत
भगत सिंह (जन्म: २८ सितम्बर १९०७, मृत्यु: २३ मार्च १९३१) भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे। भगतसिंह ने देश की आज़ादी के लिए जिस साहस के साथ शक्तिशाली ब्रिटिश सरकार का मुक़ाबला किया, वह आज के युवकों के लिए एक बहुत बड़ा आदर्श है। इन्होंने केन्द्रीय संसद (सेण्ट्रल असेम्बली) में बम फेंककर भी भागने से मना कर दिया। जिसके फलस्वरूप इन्हें २३ मार्च १९३१ को इनके दो अन्य साथियों, राजगुरु तथा सुखदेव के साथ फाँसी पर लटका दिया गया। सारे देश ने उनके बलिदान को बड़ी गम्भीरता से याद किया। पहले लाहौर में साण्डर्स-वध और उसके बाद दिल्ली की केन्द्रीय असेम्बली में चन्द्रशेखर आजाद व पार्टी के अन्य सदस्यों के साथ बम-विस्फोट करके ब्रिटिश साम्राज्य के विरुद्ध खुले विद्रोह को बुलन्दी प्रदान की। इन सभी बम धमाको के लिए उन्होंने वीर सावरकर के क्रांतिदल अभिनव भारत की भी सहायता ली और इसी दल से बम बनाने के गुर सीखे।
"ऐसा कम होता है कि एक क्रान्तिकारी दूसरे क्रान्तिकारी की छवि का वर्णन करे और दोनों ही शहीद हो जायें। रामप्रसाद बिस्मिल १९ दिसम्बर १९२७ को शहीद हुए, उससे पहले मई १९२७ में भगतसिंह ने किरती में 'काकोरी के वीरों से परिचय' लेख लिखा। उन्होंने बिस्मिल के बारे में लिखा - 'ऐसे नौजवान कहाँ से मिल सकते हैं? आप युद्ध विद्या में बड़े कुशल हैं और आज उन्हें फाँसी का दण्ड मिलने का कारण भी बहुत हद तक यही है। इस वीर को फाँसी का दण्ड मिला और आप हँस दिये। ऐसा निर्भीक वीर, ऐसा सुन्दर जवान, ऐसा योग्य व उच्चकोटि का लेखक और निर्भय योद्धा मिलना कठिन है।' सन् १९२२ से १९२७ तक रामप्रसाद बिस्मिल ने एक लम्बी वैचारिक यात्रा पूरी की। उनके आगे की कड़ी थे भगतसिंह।"




Shaheed Bhagat Singh:-
(About Shaheed Bhagat singh pic- Bhagat Singh as he appeared in 1929 after cutting his hair in Lahore to escape detection by police)
Born 28 September 1907[a]
Jaranwala Tehsil, Punjab, British India
Died 23 March 1931 (aged 23)
Lahore, Punjab, British India
Organization Naujawan Bharat Sabha,
Kirti Kisan Party,
Hindustan Socialist Republican Association
Movement Indian Independence movement
Religion None (Singh was an Atheist)
Bhagat Singh ( 27/28 September 1907 – 23 March 1931) was an Indian socialist considered to be one of the most influential revolutionaries of the Indian independence movement. He is often referred to as "Shaheed Bhagat Singh", the word "Shaheed" meaning "martyr" in a number of South Asian and Middle Eastern languages. Born into a Sikh family which had earlier been involved in revolutionary activities against the British Raj, as a teenager Singh studied European revolutionary movements and was attracted to anarchist and Marxist ideologies. He became involved in numerous revolutionary organisations, and quickly rose through the ranks of the Hindustan Republican Association (HRA) to become one of its main leaders, eventually changing its name to the Hindustan Socialist Republican Association (HSRA) in 1928.
Seeking revenge for the death of Lala Lajpat Rai at the hands of the police, Singh was involved in the murder of British police officer John Saunders. He eluded efforts by the police to capture him. Soon after, together with Batukeshwar Dutt, he and an accomplice threw two bombs and leaflets inside the Central Legislative Assembly. The two men were arrested, as they had planned to be. Held on this charge, he gained widespread national support when he underwent a 116-day fast in jail, demanding equal rights for British and Indian political prisoners. During this time, sufficient evidence was brought against him for a conviction in the Saunders case, after trial by a Special Tribunal and appeal at the Privy Council in England. He was convicted and subsequently hanged for his participation in the murder, aged 23. His legacy prompted youth in India to begin fighting for Indian independence and he continues to be a youth idol in modern India, as well as the inspiration for several films. He is commemorated with a large bronze statue in the Parliament of India, as well as a range of other memorials.




Know about Anandibai Joshi in Hindi

आनंदीबाई जोशी ( India's first lady doctor ):-
पुणे शहर में जन्‍मी आनंदीबाई जोशी (31 मार्च 1865-26 फ़रवरी 1887) पहली भारतीय महिला थीं, जिन्‍होंने डॉक्‍टरी की डिग्री ली थी। जिस दौर में महिलाओं की शिक्षा भी दूभर थी, ऐसे में विदेश जाकर डॉक्‍टरी की डिग्री हासिल करना अपने-आप में एक मिसाल है। उनका विवाह नौ साल की अल्‍पायु में उनसे करीब 20 साल बड़े गोपालराव से हो गया था। जब 14 साल की उम्र में वे माँ बनीं और उनकी एकमात्र संतान की मृत्‍यु 10 दिनों में ही गई तो उन्‍हें बहुत बड़ा आघात लगा। अपनी संतान को खो देने के बाद उन्‍होंने यह प्रण किया कि वह एक दिन डॉक्‍टर बनेंगी और ऐसी असमय मौत को रोकने का प्रयास करेंगी। उनके पति गोपालराव ने भी उनको भरपूर सहयोग दिया और उनकी हौसलाअफजाई की।
आनंदीबाई जोशी का व्‍यक्तित्‍व महिलाओं के लिए प्रेरणास्‍त्रोत है। उन्‍होंने सन् 1886 में अपने सपने को साकार रूप दिया। जब उन्‍होंने यह निर्णय लिया था, उनकी समाज में काफी आलोचना हुई थी कि एक शादीशुदा हिंदू स्‍त्री विदेश (पेनिसिल्‍वेनिया) जाकर डॉक्‍टरी की पढ़ाई करे। लेकिन आनंदीबाई एक दृढ़निश्‍चयी महिला थीं और उन्‍होंने आलोचनाओं की तनिक भी परवाह नहीं की। यही वजह है कि उन्‍हें पहली भारतीय महिला डॉक्‍टर होने का गौरव प्राप्‍त हुआ। डिग्री पूरी करने के बाद जब आनंदीबाई भारत वापस लौटीं तो उनका स्‍वास्‍थ्‍य बिगढने लगा और बाईस वर्ष की अल्‍पायु में ही उनकी मृत्‍यु हो गई। यह सच है कि आनंदीबाई ने जिस उद्देश्‍य से डॉक्‍टरी की डिग्री ली थी, उसमें वे पूरी तरह सफल नहीं हो पाईंं, परंतू उन्‍होंने समाज में वह स्थान प्राप्त किया, जो आज भी एक मिसाल है।

Know about DR. Rajendra Prasad in Hindi

डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद:-
जन्मतिथि: 3 दिसम्बर 1884
निधन: 28 फ़रवरी 1963
जन्मस्थान: जीरादेई, बिहार
पत्नी: राजवंशी देवी
भारत के राष्ट्रपति
राष्ट्रपति क्रम: पहले राष्ट्रपति
पदभार ग्रहण: 26 जनवरी 1950
सेवामुक्ति: 13 मई 1962
पूर्ववर्ती: कोई नहीं (भारत के तत्कालीन गवर्नर जनरल,
राजाजी के अधीन)
उत्तराधिकारी: सर्वपल्ली राधाकृष्णन
डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद (3 दिसम्बर, 1884 - 28 फरवरी, 1963) भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। वे भारतीय स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से थे जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में प्रमुख भूमिका निभाई। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में भी अपना योगदान दिया था जिसकी परिणति २६ जनवरी १९५० को भारत के एक गणतंत्र के रूप में हुई थी। राष्ट्रपति होने के अतिरिक्त उन्होंने स्वाधीन भारत में केन्द्रीय मन्त्री के रूप में भी कुछ समय के लिए काम किया था। पूरे देश में अत्यन्त लोकप्रिय होने के कारण उन्हें राजेन्द्र बाबू या देशरत्न कहकर पुकारा जाता था।
पूर्वज:-
बाबू राजेन्द्र प्रसाद के पूर्वज मूलरूप से कुआँगाँव, अमोढ़ा (उत्तर प्रदेश) के निवासी थे। यह एक कायस्थ परिवार था। कुछ कायस्थ परिवार इस स्थान को छोड़ कर बलिया जा बसे थे। कुछ परिवारों को बलिया भी रास नहीं आया इसलिये वे वहाँ से बिहार के जिला सारन के एक गाँव जीरादेई में जा बसे। इन परिवारों में कुछ शिक्षित लोग भी थे। इन्हीं परिवारों में राजेन्द्र प्रसाद के पूर्वजों का परिवार भी था। जीरादेई के पास ही एक छोटी सी रियासत थी - हथुआ। चूँकि राजेन्द्र बाबू के दादा पढ़े-लिखे थे, अतः उन्हें हथुआ रियासत की दीवानी मिल गई। पच्चीस-तीस सालों तक वे उस रियासत के दीवान रहे। उन्होंने स्वयं भी कुछ जमीन खरीद ली थी। राजेन्द्र बाबू के पिता महादेव सहाय इस जमींदारी की देखभाल करते थे। राजेन्द्र बाबू के चाचा जगदेव सहाय भी घर पर ही रहकर जमींदारी का काम देखते थे। अपने पाँच भाई-बहनों में वे सबसे छोटे थे इसलिए पूरे परिवार में सबके प्यारे थे।
उनके चाचा के चूँकि कोई संतान नहीं थी इसलिए वे राजेन्द्र प्रसाद को अपने पुत्र की भाँति ही समझते थे। दादा, पिता और चाचा के लाड़-प्यार में ही राजेन्द्र बाबू का पालन-पोषण हुआ। दादी और माँ का भी उन पर पूर्ण प्रेम बरसता था।
बचपन में राजेन्द्र बाबू जल्दी सो जाते थे और सुबह जल्दी उठ जाते थे। उठते ही माँ को भी जगा दिया करते और फिर उन्हें सोने ही नहीं देते थे। अतएव माँ भी उन्हें प्रभाती के साथ-साथ रामायण महाभारत की कहानियाँ और भजन कीर्तन आदि रोजाना सुनाती थीं।

Know Guljari Lal Nanda in hindi

गुलजारी:लाल नन्दा-
जन्मतिथी: 4 जुलाई, 1898
निधन: 15 जनवरी, 1998
भारत के प्रधानमंत्री
जन्मस्थान: सियालकोट, पंजाब,
पाकिस्तान
प्रधानमंत्री क्रम: दुसरे प्रधानमंत्री
पदभार ग्रहण: 27 मई 1964
सेवामुक्त: 9 जून 1964
पूर्ववर्ती: जवाहर लाल नेहरू
उत्तराधिकारी: लाल बहादूर शास्त्री
द्वितीय कार्यकाल:
पदभार ग्रहण: 11 जनवरी 1966
सेवामुक्त: 24 जनवरी 1966
पूर्ववर्ती: लाल बहादूर शास्त्री
उत्तराधिकारी: इन्दिरा गान्धी
गुलजारीलाल नन्दा (4 जुलाई, 1898 - 15 जनवरी, 1998) भारतीय राजनीतिज्ञ थे। उनका जन्म सियालकोट, पंजाब, पाकिस्तान में हुआ था। वे १९६४ में प्रथम भारतीय प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की मृत्युपश्चात् भारत के प्रधानमंत्री बने। कांग्रेस पार्टी के प्रति समर्पित गुलज़ारी लाल नंदा प्रथम बार पंडित जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु के बाद 1964 में कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाए गए। दूसरी बार लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के बाद 1966 में यह कार्यवाहक प्रधानमंत्री बने। इनका कार्यकाल दोनों बार उसी समय तक सीमित रहा जब तक की कांग्रेस पार्टी ने अपने नए नेता का चयन नहीं कर लिया।
जन्म एवं परिवार:-
नंदाजी के रूप में विख्यात गुलज़ारी लाल नंदा का जन्म 4 जुलाई 1898 को सियालकोट में हुआ था, जो अब पश्चिमी पाकिस्तान का हिस्सा है। इनके पिता का नाम बुलाकी राम नंदा तथा माता का नाम श्रीमती ईश्वर देवी नंदा था। नंदा की प्राथमिक शिक्षा सियालकोट में ही सम्पन्न हुई। इसके बाद उन्होंने लाहौर के 'फ़ोरमैन क्रिश्चियन कॉलेज' तथा इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्ययन किया। गुलज़ारी लाल नंदा ने कला संकाय में स्नातकोत्तर एवं क़ानून की स्नातक उपाधि प्राप्त की। इनका विवाह 1916 में 18 वर्ष की उम्र में ही लक्ष्मी देवी के साथ सम्पन्न हो गया था। इनके परिवार में दो पुत्र और एक पुत्री सम्मिलित हुए।
पुरस्कार :-
गुलज़ारीलाल नन्दा को देश का सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न (1997) और दूसरा सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान पद्म विभूषण प्रदान किया गया।

Know about Dr. Sharma Shankrdyal in hindi

डॉ शंकरदयाल शर्मा :-
भारत के नवें राष्ट्रपति
कार्य काल
२५ जुलाई १९९२ – २५ जुलाई १९९7
उप राष्ट्रपति कोच्चेरी रामण नारायणन
पूर्ववर्ती रामस्वामी वेंकटरमण
उत्तरावर्ती कोच्चेरी रामण नारायणन
जन्म १९ अगस्त १९१८
भोपाल, मध्यप्रदेश, भारत
मृत्यु २६ दिसंबर १९९९
नई दिल्ली, भारत
राजनैतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवनसंगी विमला शर्मा
धर्म हिन्दू
डॉ शंकरदयाल शर्मा (१९ अगस्त १९१८- २६ दिसंबर १९९९) भारत के नवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल २५ जुलाई १९९२ से २५ जुलाई १९९७ तक रहा। राष्ट्रपति बनने से पूर्व आप भारत के आठवे उपराष्ट्रपति भी थे, आप भोपाल राज्य के मुख्यमंत्री (1952-1956) रहे तथा मध्यप्रदेश राज्य में कैबिनेट स्तर के मंत्री के रूप में उन्होंने शिक्षा, विधि, सार्वजनिक निर्माण कार्य, उद्योग तथा वाणिज्य मंत्रालय का कामकाज संभाला था। केंद्र सरकार में वे संचार मंत्री के रूप में (1974-1977) पदभार संभाला। इस दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष (1972-1974) भी रहे।
शिक्षा तथा प्रारम्भिक जीवन :-
डॉक्टर शर्मा ने सेंट जान्स कॉलेज आगरा, आगरा कॉलेज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, लखनऊ विश्वविद्यालय, फित्ज़विल्यम कॉलेज, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, लिंकोन इन् तथा हारवर्ड ला स्कूल से शिक्षा प्राप्त की। इन्होंने हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत साहित्य में एम.ए. की डिग्री विश्वविद्यालय में प्रथम स्थान के साथ प्राप्त की, आपने एल.एल.एम. की डिग्री भी लखनऊ विश्व विद्यालय से प्रथम स्थान के साथ प्राप्त की थी, विधि में पी.एच.डी. की डिग्री कैम्ब्रिज से प्राप्त की, आपको लखनऊ विश्विद्यालय से समाज सेवा में चक्रवर्ती स्वर्ण पदक भी प्राप्त हुआ था। इन्होंने लखनऊ विश्विद्यालय तथा कैम्ब्रिज में विधि का अध्यापन कार्य भी किया, कैम्ब्रिज में रहते समय आप टैगोर सोसायटी तथा कैम्ब्रिज मजलिस के कोषाध्यक्ष रहे, आपने लिंकोन इन से बैरिस्टर एट ला की डिग्री ली, आपको वहां पर मानद बेंचर तथा मास्टर चुना गया था, आप फित्ज़विल्यम कॉलेज के मानद फैलो रहे। कैम्ब्रिज विश्व विद्यालय ने आपको मानद डॉक्टर ऑफ़ ला की डिग्री दे कर सम्मानित किया। आपका विवाह विमला शर्मा के साथ हुआ था|
राजनैतिक शुरूआत:-
१९४० के दशक में वे भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन में शामिल हो गए, इस हेतु उन्होंने कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ले ली, 1952 में भोपाल के मुख्यमंत्री बन गए, इस पद पर 1956 तक रहे जब भोपाल का विलय अन्य राज्यों में कर मध्यप्रदेश की रचना हुई।

Know Shrimad Bhagavad Gita in hindi

श्रीमद्भगवद्गीता :-
श्रीमद्भगवद्‌गीता हिन्दुओं के पवित्रतम ग्रन्थों में से एक है। महाभारत के अनुसार कुरुक्षेत्र युद्ध में श्री कृष्ण ने गीता का सन्देश अर्जुन को सुनाया था। यह महाभारत के भीष्मपर्व के अन्तर्गत दिया गया एक उपनिषद् है। इसमें एकेश्वरवाद, कर्म योग, ज्ञानयोग, भक्ति योग की बहुत सुन्दर ढंग से चर्चा हुई है। इसमें देह से अतीत आत्मा का निरूपण किया गया है।
गीता पर भाष्य:-
संस्कृत साहित्य की परम्परा में उन ग्रन्थों को भाष्य (शाब्दिक अर्थ - व्याख्या के योग्य), कहते हैं जो दूसरे ग्रन्थों के अर्थ की वृहद व्याख्या या टीका प्रस्तुत करते हैं। भारतीय दार्शनिक परंपरा में किसी भी नये दर्शन को या किसी दर्शन के नये स्वरूप को जड़ जमाने के लिए जिन तीन ग्रन्थों पर अपना दृष्टिकोण स्पष्ट करना पड़ता था (अर्थात् भाष्य लिखकर) उनमें भगवद्गीता भी एक है (अन्य दो हैं- उपनिषद् तथा ब्रह्मसूत्र)। [1] भगवद्गीता पर लिखे गये प्रमुख भाष्य निम्नानुसार हैं-
गीताभाष्य - आदि शंकराचार्य
गीताभाष्य - रामानुज
गूढार्थदीपिका टीका - मधुसूदन सरस्वती
सुबोधिनी टीका - श्रीधर स्वामी
ज्ञानेश्वरी - संत ज्ञानेश्वर (संस्कृत से गीता का मराठी अनुवाद)
गीतारहस्य - बालगंगाधर तिलक
अनासक्ति योग - महात्मा गांधी
Essays on Gita - अरविन्द घोष
ईश्वारार्जुन संवाद- परमहंस योगानन्द
गीता-प्रवचन - विनोबा भावे
गीता तत्व विवेचनी टीका - जयदयाल गोयन्दका
भगवदगीता का सार- स्वामी क्रियानन्द
गीता साधक संजीवनी (टीका)- स्वामी रामसुखदास
हिन्दू धर्म
पर एक श्रेणी का भाग
Om
इतिहास · देवता
सम्प्रदाय · आगम
विश्वास और दर्शनशास्त्र
पुनर्जन्म · मोक्ष
कर्म · पूजा · माया
दर्शन · धर्म
वेदान्त ·योग
शाकाहार · आयुर्वेद
युग · संस्कार
भक्ति {{हिन्दू दर्शन}}
ग्रन्थ
वेदसंहिता · वेदांग
ब्राह्मणग्रन्थ · आरण्यक
उपनिषद् · श्रीमद्भगवद्गीता
रामायण · महाभारत
सूत्र · पुराण
शिक्षापत्री · वचनामृत
सम्बन्धित विषय
दैवी धर्म ·
विश्व में हिन्दू धर्म
गुरु · मन्दिर देवस्थान
यज्ञ · मन्त्र
शब्दकोष · हिन्दू पर्व
विग्रह

Know about "Quran" in Hindi

क़ुरआन :-
क़ुरान (अरबी : القرآن अल्-क़ुर्-आन्) इस्लाम की पवित्रतम पुस्तक है और इस्लाम की नींव है। इसे परमेश्वर (अल्लाह) ने देवदूत (फ़रिश्ते) जिब्राएल द्वारा हज़रत मुहम्मद को सुनाया था। मुसलमानों का मानना हैं कि क़ुरान ही अल्लाह की भेजी अन्तिम और सर्वोच्च पुस्तक है।
इस्लाम की मान्यताओं के अनुसार क़ुरान का अल्लाह के दूत जिब्रील (जिसे ईसाइयत में गैब्रियल कहते हैं) द्वारा मुहम्मद साहब को सन् ६१० से सन् ६३२ में उनकी मृत्यु तक खुलासा किया गया था। हालाँकि आरंभ में इसका प्रसार मौखिक रूप से हुआ पर पैगम्बर मुहम्मद की मृत्यु के बाद सन् ६३३ में इसे पहली बार लिखा गया था और सन् ६५३ में इसे मानकीकृत कर इसकी प्रतियां इस्लामी साम्राज्य में वितरित की गईं थी। मुसलमानों का मानना है कि ईश्वर द्वारा भेजे गए पवित्र संदेशों के सबसे आख़िरी संदेश कुरान में लिखे गए हैं। इन संदेशों का शुभारम्भ आदम से हुआ था। आदम इस्लामी (और यहूदी तथा ईसाई) मान्यताओं में सबसे पहला नबी (पैगम्बर या पयम्बर) था और इसकी तुलना हिन्दू धर्म के मनु से एक सीमा तक की जा सकती है। जिस प्रकार से हिन्दू धर्म में मनु की संतानों को मानव कहा गया है वैसे ही इस्लाम में आदम की संतानों को आदम या आदमी कहा जाता है। आदम को ईसाईयत में एडम कहते हैं।
एकेश्वरवाद, धार्मिक आदेश, स्वर्ग, नरक, धैर्य, धर्म परायणता (तक्वा) के विषय ऐसे हैं जो बारम्बार दोहराए गए। क़ुरआन ने अपने समय में एक सीधे साधे, नेक व्यापारी व्यक्तियों को, जो अपने परिवार में एक भरपूर जीवन गुज़ार रहा था, विश्व की दो महान शक्तियों (रोमन तथा ईरानी) के समक्ष खड़ा कर दिया। केवल यही नहीं उसने रेगिस्तान के अनपढ़ लोगों को ऐसा सभ्य बना दिया कि पूरे विश्व पर इस सभ्यता की छाप से सैकड़ों वर्षों बाद भी इसके चिह्न मिलते हैं। क़ुरआन ने युध्द, शांति, राज्य संचालन इबादत, परिवार के वे आदर्श प्रस्तुत किए जिसका मानव समाज में आज प्रभाव है। मुसलमानों के अनुसार कुरआन में दिए गए ज्ञान से ये साबित होता है कि मुहम्मद साहब एक नबी थे।
क़ुरान कथ्य:-
क़ुरान में कुल ११४ अध्याय हैं जिन्हें सूरा कहते हैं। बहुवचन में इन्हें सूरत कहते हैं। यानि १५वें अध्याय को सूरत १५ कहेंगे। हर अध्याय में कुछ श्लोक हैं जिन्हें आयत कहते हैं। क़ुरआन की ६,६६६ आयतों में से (कुछ के अनुसार ६,२३८) अभी तक १,००० आयतें वैज्ञानिक तथ्यों पर बहस करती हैं।
ऐतिहासिक रूप से यह सिद्ध हो चुका है कि इस धरती पर उपस्थित हर क़ुरान की प्रति वही मूल प्रति का प्रतिरूप है जो हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) पर अवतरित हुई थी। जिसे इस पर विश्वास न हो वह कभी भी इस की जांच कर सकता है। धरती के किसी भी भू भाग से क़ुरान लीजिए और उसे प्राचीन युग की उन प्रतियों से मिला कर जांच कर लीजिए जो अब तक सुरक्षित रखी हैं। तृतीय ख़लीफ़ा हज़रत उस्मान (रज़ि.) ने अपने सत्ता समय में हज़रत सि¬द्दीक़े अकबर (रज़ि.) द्वारा संकलित क़ुरआन की ९ प्रतियां तैयार करके कई देशों में भेजी थी उनमें से दो क़ुरान की प्रतियां अभी भी पूर्ण सुरक्षित हैं। एक ताशक़ंद में और दूसरी तुर्की में उपस्थित है। यह १५०० वर्ष पुरानी हैं, इसकी भी जांच वैज्ञानिक रूप से काराई जा सकती है। फिर यह भी एतिहासिक रूप से प्रमाणित है कि इस पुस्तक में एक मात्रा का भी अंतर हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के समय से अब तक नहीं आया है।

Know about Adolf Hitler in Hindi

एडोल्फ हिटलर :-
अडोल्फ हिटलर (२० अप्रैल १८८९ - ३० अप्रैल १९४५) एक प्रसिद्ध जर्मन राजनेता एवं तानाशाह थे। वे "राष्ट्रीय समाजवादी जर्मन कामगार पार्टी" (NSDAP) के नेता थे। इस पार्टी को प्राय: "नाजी पार्टी" के नाम से जाना जाता है। सन् १९३३ से सन् १९४५ तक वह जर्मनी का शासक रहे। हिटलर को द्वितीय विश्वयुद्ध के लिये सर्वाधिक जिम्मेदार माना जाता है। द्वीतिय विश्व युद्ध तब हुआ जब उनके आदेश पर नात्सी सेना ने पोलैंड पर आक्रमण किया। फ्रांस और ब्रिटेन ने पोलैंड को सुरक्षा देने का वादा किया था और वादे के अनुसार उन दोनो ने नात्सी जरमनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी।
रोचक तथ्य :-
यूरोप की धरती पर कत्लेआम मचा कर हिटलर को सबसे ज्यादा क्रूर आदमी के रूप में जाना गया। हिटलर नाम दुष्टता का पर्याय बन गया। प्रथम विश्वयुद्ध में ब्रिटिश सैनिकों ने एक घायल जर्मन सैनिक की जान बख्श दी थी। वह खुशनसीब सैनिक एडोल्फ हिटलर ही था, जिसने चुन-चुन के यहूदियों को कत्लेआम किया। वहीं, सिर्फ चार साल की उम्र में एक पादरी ने हिटलर को डूबने से बचाया था। द्वितीय विश्व युद्ध के यातना गृह के बारे में सभी जानते हैं। यहां यहूदी लोगों को इकट्ठा कर गैस चैंबर में ठूस दिया जाता था। यह आश्चर्य की बात है कि हिटलर ने इन यातनागृहों का कभी भी दौरा नहीं किया। भले ही द्वितीय विश्व युद्ध में यूरोप की धरती को यहूदियों के खून से लाल कर दिया गया हो, लेकिन हिटलर का पहला प्यार एक यहूदी लड़की ही थी। तब वह इतना साहस भी नहीं बटोर पाया कि उससे अपनी दिल की बात कह सके। इतना कत्लेआम मचाने के बाद भी हिटलर शुद्ध रूप से शाकाहारी था। इतना ही नहीं, उसने पशु क्रूरता के खिलाफ एक कानून भी बना दिया। वहीं, हिटलर अमेरिकी कार निर्माता हेनरी फोर्ड से बहुत ज्यादा प्रभावित था। इसलिए वह अपनी डेस्क के पीछे उनकी तस्वीर लगा कर रखता था। हिटलर पेट फूलने की समस्या से ग्रस्त था। इसके लिए वह 28 तरीके की दवाइयां लेता था। इतना ही नहीं, वह 80 तरह की नशीली दवाओं (ड्रग्स) का लती भी था। इनमें एम्फैटेमिन का कॉकटेल, बैल का वीर्य, चूहे मारने वाली दवाई और मॉर्फिन हिटलर को अत्यधिक पसंद थी। इसमें कोई शक नहीं कि 80 तरीके की नशीली दवाओं का उपयोग हिटलर अपनी सेक्स ताकत बढ़ाने के लिए करता था। लेकिन कि हिटलर के पास सिर्फ एक ही अंडकोष था। एंटी स्मोकिंग कैम्पेन (धूम्रपान विरोधी अभियान) के आधुनिक इतिहास में पहली बार हिटलर ने सार्वनिक रूप से धूम्रपान के खिलाफ कैम्पेन का आगाज किया।

Know about Sardar Vallabh Bhai Patel in hindi

सरदार वल्लभ भाई पटेल :-
भारत के उप प्रधानमंत्री
पद बहाल
15 अगस्त 1947 – 15 दिसम्बर 1950
प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु
पूर्वा धिकारी पद सृजन
उत्तरा धिकारी मोरारजी देसाई
गृह मंत्रालय
पद बहाल
15 अगस्त 1947 – 15 दिसम्बर 1950
प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु
पूर्वा धिकारी पद सृजन
उत्तरा धिकारी चक्रवर्ती राजगोपालाचारी
जन्म 31 अक्टूबर 1875
नडियाद, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
मृत्यु 15 दिसम्बर 1950 (उम्र 75)
बॉम्बे, बॉम्बे राज्य, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
बच्चे मणिबेन पटेल, दह्याभाई पटेल
विद्यालय कॉलेज मिडल टेम्पल
पेशा वकालत
सरदार वल्लभ भाई पटेल (31 अक्टूबर, 1875 - 15 दिसम्बर, 1950) (गुजराती: સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ) भारत के स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी एवं स्वतन्त्र भारत के प्रथम गृहमंत्री थे। सरदार पटेल बर्फ से ढंके एक ज्वालामुखी थे। वे नवीन भारत के निर्माता थे। राष्ट्रीय एकता के बेजोड़ शिल्पी थे। वास्तव में वे भारतीय जनमानस अर्थात किसान की आत्मा थे।
भारत की स्वतंत्रता संग्राम मे उनका महत्वपूर्ण योगदान है। भारत की आजादी के बाद वे प्रथम गृह मंत्री और उपप्रधानमंत्री बने। उन्हे भारत का 'लौह पुरूष' भी कहा जाता है।
जीवन परिचय:-
पटेल का जन्म नडियाद, गुजरात में एक पाटीदार कृषक ज़मीदार परिवार में हुआ था। वे झवेरभाई पटेल एवं लदबा की चौथी संतान थे। सोमभाई, नरसीभाई और विट्टलभाई उनके अग्रज थे। उनकी शिक्षा मुख्यतः स्वाध्याय से ही हुई। लन्दन जाकर उन्होंने बैरिस्टर की पढाई की और वापस आकर अहमदाबाद में वकालत करने लगे। महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित होकर उन्होने भारत के स्वतन्त्रता आन्दोलन में भाग लिया।
पटेल का सम्मान :-
अहमदाबाद के हवाई अड्डे का नामकरण सरदार वल्लभभाई पटेल अन्तराष्ट्रीय हवाई अड्डा रखा गया है।
गुजरात के वल्लभ विद्यानगर में सरदार पटेल विश्वविद्यालय
सन १९९१ में मरणोपरान्त भारत रत्न से सम्मानित
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी :-
31 अक्टूबर 2013 को सरदार वल्लभ भाई पटेल की 137वीं जयंती के मौके पर गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के नर्मदा जिले में सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्मारक का शिलान्यास किया। इसका नाम 'एकता की मूर्ति' (स्टैच्यू ऑफ यूनिटी) रखा गया है। यह मूर्ति 'स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी' (93 मीटर) से दुगनी ऊंची बनेगी। इस प्रस्तावित प्रतिमा को एक छोटे चट्टानी द्वीप पर स्थापित किया जाना है जो केवाड़िया में सरदार सरोवर बांध के सामने नर्मदा नदी के मध्य में है। सरदार वल्लभ भाई पटेल की यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होगी तथा यह 5 वर्ष में लगभग 2500 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होनी है।

Know about "Bharat Ratna" in hindi



भारत रत्न सम्मान की जानकारी
प्रकार - नागरिक
श्रेणी - सामान्य
स्थापना वर्ष - १९५४
अंतिम अलंकरण - २०१३
कुल अलंकरण - ४३
अलंकरणकर्ता - भारत सरकार
विवरण - सूर्य की प्लैटिनम छवि के संग भारत रत्न देवनागरी लिपि में खुदा हुआ,
एक पीपल के पत्ते पर
प्रथम अलंकृत - सर्वपल्ली राधाकृष्णन
अंतिम अलंकृत - पं.भीमसेन जोशी
सम्मान श्रेणी
कोई नहीं ← भारत रत्न → पद्म विभूषण
भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल है। इस सम्मान की स्थापना २ जनवरी १९५४ में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी। अन्य अलंकरणों के समान इस सम्मान को भी नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता। प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान १९५५ में बाद में जोड़ा गया। तत्पश्चात १2 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया। सुभाष चन्द्र बोस को घोषित सम्मान वापस लिए जाने के उपरान्त मरणोपरान्त सम्मान पाने वालों की संख्या ११ मानी जा सकती है। एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है।
अन्य प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान की श्रेणी में पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री का नाम लिया जा सकता है।
पदक :-
मूल रूप में इस सम्मान के पदक का डिजाइन ३५ मिमि गोलाकार स्वर्ण मैडल था। जिसमें सामने सूर्य बना था, ऊपर हिन्दी में भारत रत्न लिखा था और नीचे पुष्प हार था। और पीछे की तरफ़ राष्ट्रीय चिह्न और मोटो था। फिर इस पदक के डिज़ाइन को बदल कर तांबे के बने पीपल के पत्ते पर प्लेटिनम का चमकता सूर्य बना दिया गया। जिसके नीचे चाँदी में लिखा रहता है "भारत रत्न" और यह सफ़ेद फीते के साथ गले में पहना जाता है।

Know about "Padma Vibhushan" respect

पद्म विभूषण सम्मान की जानकारी
प्रकार नागरिक
श्रेणी - सामान्य
स्थापना वर्ष - 1954
प्रथम अलंकरण - 1954
अंतिम अलंकरण - 2008
कुल अलंकरण - 242
अलंकरणकर्ता - भारत सरकार
पूर्व नाम - पद्म विभूषण, पलहा वर्ग
फीता - मध्यम गुलाबी
प्रथम अलंकृत - सत्येन्द्र नाथ बोस व अन्य (1954)
अंतिम अलंकृत - रघुनाथ माशेलकर, बी के एस अयंगार(2014)
पद्म विभूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा उच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिये असैनिक क्षेत्रों में बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है। यह सम्मान भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में की गयी थी। भारत रत्‍न के बाद यह दूसरा प्रतिष्ठित सम्मान है। पद्म विभूषण के बाद तीसरा नागरिक सम्मान पद्म भूषण है। यह सम्मान किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट और उल्लेखनीय सेवा के लिए प्रदान किया जाता है। इसमें सरकारी कर्मचारियों द्वारा की गई सेवाएं भी शामिल हैं।

Friday, 22 May 2015

Know all about Kolkata in HIndi

कोलकाता :-
देश भारत
राज्य पश्चिम बंगाल
ज़िला कलकत्ता †
महापौर बिकाश रंजन भट्टाचार्य
जनसंख्या 7,780,544 (2008 के अनुसार )
• घनत्व 42,057 /किमी2 (1,08,927 /वर्ग मील)
• महानगर - 16
आधिकारिक भाषा(एँ) बांग्ला, अंग्रेज़ी
क्षेत्रफल 185 km² (71 sq mi)
• ऊँचाई (AMSL) 9 मीटर (30 फी॰)
बंगाल की खाड़ी के शीर्ष तट से १८० किलोमीटर दूर हुगली नदी के बायें किनारे पर स्थित कोलकाता (बांग्ला: কলকাতা ) (पुराना नाम कलकत्ता) पश्चिम बंगाल की राजधानी है। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा महानगर तथा पाँचवा सबसे बड़ा बन्दरगाह है। यहाँ की जनसंख्या २ करोड २९ लाख है। इस शहर का इतिहास अत्यंत प्राचीन है। इसके आधुनिक स्वरूप का विकास अंग्रेजो एवं फ्रांस के उपनिवेशवाद के इतिहास से जुड़ा है। आज का कोलकाता आधुनिक भारत के इतिहास की कई गाथाएँ अपने आप में समेटे हुए है। शहर को जहाँ भारत के शैक्षिक एवं सांस्कृतिक परिवर्तनों के प्रारम्भिक केन्द्र बिन्दु के रूप में पहचान मिली है वहीं दूसरी ओर इसे भारत में साम्यवाद आंदोलन के गढ़ के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। महलों के इस शहर को 'सिटी ऑफ़ जॉय' के नाम से भी जाना जाता है।
अपनी उत्तम अवस्थिति के कारण कोलकाता को 'पूर्वी भारत का प्रवेश द्वार' भी कहा जाता है। यह रेलमार्गों, वायुमार्गों तथा सड़क मार्गों द्वारा देश के विभिन्न भागों से जुड़ा हुआ है। यह प्रमुख यातायात का केन्द्र, विस्तृत बाजार वितरण केन्द्र, शिक्षा केन्द्र, औद्योगिक केन्द्र तथा व्यापार का केन्द्र है। अजायबघर, चिड़ियाखाना, बिरला तारमंडल, हावड़ा पुल, कालीघाट, फोर्ट विलियम, विक्टोरिया मेमोरियल, विज्ञान नगरी आदि मुख्य दर्शनीय स्थान हैं। कोलकाता के निकट हुगली नदी के दोनों किनारों पर भारतवर्ष के प्रायः अधिकांश जूट के कारखाने अवस्थित हैं। इसके अलावा मोटरगाड़ी तैयार करने का कारखाना, सूती-वस्त्र उद्योग, कागज-उद्योग, विभिन्न प्रकार के इंजीनियरिंग उद्योग, जूता तैयार करने का कारखाना, होजरी उद्योग एवं चाय विक्रय केन्द्र आदि अवस्थित हैं। पूर्वांचल एवं सम्पूर्ण भारतवर्ष का प्रमुख वाणिज्यिक केन्द्र के रूप में कोलकाता का महत्त्व अधिक है।
विकास और नामकरण :-
आधिकारिक रूप से इस शहर का नाम कोलकाता १ जनवरी, २००१ को रखा गया। इसका पूर्व नाम अंग्रेजी में "कैलकटा' था लेकिन बांग्ला भाषी इसे सदा कोलकाता या कोलिकाता के नाम से ही जानते है एवं हिन्दी भाषी समुदाय में यह कलकत्ता के नाम से जाना जाता रहा है। सम्राट अकबर के चुंगी दस्तावेजों और पंद्रहवी सदी के विप्रदास की कविताओं में इस नाम का बार-बार उल्लेख मिलता है। इसके नाम की उत्पत्ति के बारे में कई तरह की कहानियाँ मशहूर हैं। सबसे लोकप्रिय कहानी के अनुसार हिंदुओं की देवी काली के नाम से इस शहर के नाम की उत्पत्ति हुई है। इस शहर के अस्तित्व का उल्लेख व्यापारिक बंदरगाह के रूप में चीन के प्राचीन यात्रियों के यात्रा वृत्तांत और फारसी व्यापारियों के दस्तावेजों में मिलता है। महाभारत में भी बंगाल के कुछ राजाओं का नाम है जो कौरव सेना की तरफ से युद्ध में शामिल हुए थे। नाम की कहानी और विवाद चाहे जो भी हों इतना तो तय है कि यह आधुनिक भारत के शहरों में सबसे पहले बसने वाले शहरों में से एक है। १६९० में इस्ट इंडिया कंपनी के अधिकारी "जाब चारनाक" ने अपने कंपनी के व्यापारियों के लिये एक बस्ती बसाई थी। १६९८ में इस्ट इंडिया कंपनी ने एक स्थानीय जमींदार परिवार सावर्ण रायचौधुरी से तीन गाँव (सूतानीति, कोलिकाता और गोबिंदपुर) के इजारा लिये। अगले साल कंपनी ने इन तीन गाँवों का विकास प्रेसिडेंसी सिटी के रूप में करना शुरू किया। १७२७ में इंग्लैंड के राजा जार्ज द्वतीय के आदेशानुसार यहाँ एक नागरिक न्यायालय की स्थापना की गयी। कोलकाता नगर निगम की स्थापना की गयी और पहले मेयर का चुनाव हुआ। १७५६ में बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला ने कोलिकाता पर आक्रमण कर उसे जीत लिया। उसने इसका नाम "अलीनगर" रखा। लेकिन साल भर के अंदर ही सिराजुद्दौला की पकड़ यहाँ ढीली पड़ गयी और अंग्रेजों का इस पर पुन: अधिकार हो गया। १७७२ में वारेन हेस्टिंग्स ने इसे ब्रिटिश शासकों की भारतीय राजधानी बना दी। कुछ इतिहासकार इस शहर की एक बड़े शहर के रूप में स्थापना की शुरुआत १६९८ में फोर्ट विलियम की स्थापना से जोड़ कर देखते हैं। १९१२ तक कोलकाता भारत में अंग्रेजो की राजधानी बनी रही।
१७५७ के बाद से इस शहर पर पूरी तरह अंग्रेजों का प्रभुत्व स्थापित हो गया और १८५० के बाद से इस शहर का तेजी से औद्योगिक विकास होना शुरु हुआ खासकर कपड़ों के उद्योग का विकास नाटकीय रूप से यहाँ बढा हलाकि इस विकास का असर शहर को छोड़कर आसपास के इलाकों में कहीं परिलक्षित नहीं हुआ। ५ अक्टूबर १८६५ को समुद्री तूफान (जिसमे साठ हजार से ज्यादा लोग मारे गये) की वजह से कोलकाता में बुरी तरह तबाही होने के बावजूद कोलकात अधिकांशत: अनियोजित रूप से अगले डेढ सौ सालों में बढता रहा और आज इसकी आबादी लगभ १ करोड़ ४० लाख है। कोलकाता १९८० से पहले भारत की सबसे ज्यादा आबादी वाला शहर था, लेकिन इसके बाद मुंबई ने इसकी जगह ली। भारत की आज़ादी के समय १९४७ में और १९७१ के भारत पाकिस्तान युद्ध के बाद "पूर्वी बंगाल" (अब बांग्लादेश) से यहाँ शरणार्थियों की बाढ आ गयी जिसने इस शहर की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह झकझोरा।

Small notes on "SWADHINTA" (Liberty)

स्वाधीनता या लिबर्टी (Liberty) से आशय व्यक्ति द्वारा अपने क्रियाकलापों का स्वयं द्वारा नियंत्रण से है। स्वाधीनता के बहुत से काँसेप्ट दिये गये हैं जिनमें व्यक्ति का समाज के साथ सम्बन्धों को भिन्न-भिन्न प्रकार से पारिभाषित किया गया 

Thursday, 21 May 2015

Swami Vivekanand speech in America in hindi

स्वामी विवेकानन्द :-
सम्मलेन भाषण :-
मेरे अमरीकी भाइयो और बहनों!
आपने जिस सौहार्द और स्नेह के साथ हम लोगों का स्वागत किया हैं उसके प्रति आभार प्रकट करने के निमित्त खड़े होते समय मेरा हृदय अवर्णनीय हर्ष से पूर्ण हो रहा हैं। संसार में संन्यासियों की सबसे प्राचीन परम्परा की ओर से मैं आपको धन्यवाद देता हूँ; धर्मों की माता की ओर से धन्यवाद देता हूँ; और सभी सम्प्रदायों एवं मतों के कोटि कोटि हिन्दुओं की ओर से भी धन्यवाद देता हूँ।
मैं इस मंच पर से बोलने वाले उन कतिपय वक्ताओं के प्रति भी धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ जिन्होंने प्राची के प्रतिनिधियों का उल्लेख करते समय आपको यह बतलाया है कि सुदूर देशों के ये लोग सहिष्णुता का भाव विविध देशों में प्रचारित करने के गौरव का दावा कर सकते हैं। मैं एक ऐसे धर्म का अनुयायी होने में गर्व का अनुभव करता हूँ जिसने संसार को सहिष्णुता तथा सार्वभौम स्वीकृत- दोनों की ही शिक्षा दी हैं। हम लोग सब धर्मों के प्रति केवल सहिष्णुता में ही विश्वास नहीं करते वरन समस्त धर्मों को सच्चा मान कर स्वीकार करते हैं। मुझे ऐसे देश का व्यक्ति होने का अभिमान है जिसने इस पृथ्वी के समस्त धर्मों और देशों के उत्पीड़ितों और शरणार्थियों को आश्रय दिया है। मुझे आपको यह बतलाते हुए गर्व होता हैं कि हमने अपने वक्ष में उन यहूदियों के विशुद्धतम अवशिष्ट को स्थान दिया था जिन्होंने दक्षिण भारत आकर उसी वर्ष शरण ली थी जिस वर्ष उनका पवित्र मन्दिर रोमन जाति के अत्याचार से धूल में मिला दिया गया था। ऐसे धर्म का अनुयायी होने में मैं गर्व का अनुभव करता हूँ जिसने महान जरथुष्ट जाति के अवशिष्ट अंश को शरण दी और जिसका पालन वह अब तक कर रहा है। भाईयो मैं आप लोगों को एक स्तोत्र की कुछ पंक्तियाँ सुनाता हूँ जिसकी आवृति मैं बचपन से कर रहा हूँ और जिसकी आवृति प्रतिदिन लाखों मनुष्य किया करते हैं:
रुचीनां वैचित्र्यादृजुकुटिलनानापथजुषाम्। नृणामेको गम्यस्त्वमसि पयसामर्णव इव।।
अर्थात जैसे विभिन्न नदियाँ भिन्न भिन्न स्रोतों से निकलकर समुद्र में मिल जाती हैं उसी प्रकार हे प्रभो! भिन्न भिन्न रुचि के अनुसार विभिन्न टेढ़े-मेढ़े अथवा सीधे रास्ते से जानेवाले लोग अन्त में तुझमें ही आकर मिल जाते हैं।
यह सभा, जो अभी तक आयोजित सर्वश्रेष्ठ पवित्र सम्मेलनों में से एक है स्वतः ही गीता के इस अद्भुत उपदेश का प्रतिपादन एवं जगत के प्रति उसकी घोषणा करती है:
ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्। मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः।।
अर्थात जो कोई मेरी ओर आता है-चाहे किसी प्रकार से हो-मैं उसको प्राप्त होता हूँ। लोग भिन्न मार्ग द्वारा प्रयत्न करते हुए अन्त में मेरी ही ओर आते हैं।
साम्प्रदायिकता, हठधर्मिता और उनकी वीभत्स वंशधर धर्मान्धता इस सुन्दर पृथ्वी पर बहुत समय तक राज्य कर चुकी हैं। वे पृथ्वी को हिंसा से भरती रही हैं व उसको बारम्बार मानवता के रक्त से नहलाती रही हैं, सभ्यताओं को ध्वस्त करती हुई पूरे के पूरे देशों को निराशा के गर्त में डालती रही हैं। यदि ये वीभत्स दानवी शक्तियाँ न होतीं तो मानव समाज आज की अवस्था से कहीं अधिक उन्नत हो गया होता। पर अब उनका समय आ गया हैं और मैं आन्तरिक रूप से आशा करता हूँ कि आज सुबह इस सभा के सम्मान में जो घण्टा ध्वनि हुई है वह समस्त धर्मान्धता का, तलवार या लेखनी के द्वारा होनेवाले सभी उत्पीड़नों का तथा एक ही लक्ष्य की ओर अग्रसर होने वाले मानवों की पारस्पारिक कटुता का मृत्यु निनाद सिद्ध हो।
यात्राएँ :-
२५ वर्ष की अवस्था में नरेन्द्र ने गेरुआ वस्त्र धारण कर लिए थे। तत्पश्चात उन्होंने पैदल ही पूरे भारतवर्ष की यात्रा की। सन्‌ १८९३ में शिकागो (अमरीका) में विश्व धर्म परिषद् हो रही थी। स्वामी विवेकानन्द उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप में पहुँचे। योरोप-अमरीका के लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे। वहाँ लोगों ने बहुत प्रयत्न किया कि स्वामी विवेकानन्द को सर्वधर्म परिषद् में बोलने का समय ही न मिले। परन्तु एक अमेरिकन प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें थोड़ा समय मिला। उस परिषद् में उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चकित हो गये। फिर तो अमरीका में उनका अत्यधिक स्वागत हुआ। वहाँ उनके भक्तों का एक बड़ा समुदाय बन गया। तीन वर्ष वे अमरीका में रहे और वहाँ के लोगों को भारतीय तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान की। उनकी वक्तृत्व-शैली तथा ज्ञान को देखते हुए वहाँ के मीडिया ने उन्हें साइक्लॉनिक हिन्दू का नाम दिया। "अध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जायेगा" यह स्वामी विवेकानन्द का दृढ़ विश्वास था। अमरीका में उन्होंने रामकृष्ण मिशन की अनेक शाखाएँ स्थापित कीं। अनेक अमरीकी विद्वानों ने उनका शिष्यत्व ग्रहण किया। वे सदा अपने को 'गरीबों का सेवक' कहते थे। भारत के गौरव को देश-देशान्तरों में उज्ज्वल करने का उन्होंने सदा प्रयत्न किया।

Ashoka's Sinhcturmuk chapiter ( Ashoka stambh)

अशोक का सिंहचतुर्मुख स्तम्भशीर्ष :-
सारनाथ में अशोक ने जो स्तम्भ बनवाया था उसके शीर्ष भाग को सिंहचतुर्मुख कहते हैं। इस मूर्ति में चार भारतीय सिंह पीठ-से-पीठ सटाये खड़े हैं। अशोक स्तम्भ अब भी अपने मूल स्थान पर स्थित है किन्तु उसका यह शीर्ष-भाग सारनाथ के संग्रहालय में रखा हुआ है। यह सिंहचतुर्मुखस्तम्भशीर्ष ही भारत के राष्ट्रीय चिह्न के रूप में स्वीकार किया गया है। इसके आधार के मध्यभाग में स्थित धर्मचक्र को भारत के राष्ट्रीय ध्वज में बीच की सफेद पट्टी में रखा गया है।
भारत के राष्ट्रीय प्रतीक
ध्वज तिरंगा
राष्ट्रीय चिह्न अशोक की लाट
राष्ट्र-गान जन गण मन
राष्ट्र-गीत वन्दे मातरम्
पशु बाघ
जलीय जीव गंगा डालफिन
पक्षी मोर
पुष्प कमल
वृक्ष बरगद
फल आम
खेल मैदानी हॉकी
पञ्चांग शक संवत
संदर्भ "भारत के राष्ट्रीय प्रतीक"
भारतीय दूतावास, लन्दन
Retreived ०३-०९-२००७

Story behind indian flag in Hindi (Tirange ki khani)

तिरंगे का विकास
यह ध्वज भारत की स्वतंत्रता के संग्राम काल में निर्मित किया गया था। १८५७में स्वतंत्रता के पहले संग्राम के समय भारत राष्ट्र का ध्वज बनाने की योजना बनी थी, लेकिन वह आंदोलन असमय ही समाप्त हो गया था और उसके साथ ही वह योजना भी बीच में ही अटक गई थी। वर्तमान रूप में पहुंचने से पूर्व भारतीय राष्ट्रीय ध्वज अनेक पड़ावों से गुजरा है। इस विकास में यह भारत में राजनैतिक विकास का परिचायक भी है।
कुछ ऐतिहासिक पड़ाव इस प्रकार हैं :-
प्रथम चित्रित ध्वज १९०४ में स्वामी विवेकानंद की शिष्या भगिनी निवेदिता द्वारा बनाया गया था। ७ अगस्त, १९०६ को पारसी बागान चौक (ग्रीन पार्क) कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) में इसे कांग्रेस के अधिवेशन में फहराया गया था। इस ध्वज को लाल, पीले और हरे रंग की क्षैतिज पट्टियों से बनाया गया था। ऊपर की ओर हरी पट्टी में आठ कमल थे और नीचे की लाल पट्टी में सूरज और चाँद बनाए गए थे। बीच की पीली पट्टी पर वंदेमातरम् लिखा गया था।
द्वितीय ध्वज को पेरिस में मैडम कामा और १९०७ में उनके साथ निर्वासित किए गए कुछ क्रांतिकारियों द्वारा फहराया गया था। कुछ लोगों की मान्यता के अनुसार यह १९०५ में हुआ था। यह भी पहले ध्वज के समान था; सिवाय इसके कि इसमें सबसे ऊपर की पट्टी पर केवल एक कमल था, किंतु सात तारे सप्तऋषियों को दर्शाते थे। यह ध्वज बर्लिन में हुए समाजवादी सम्मेलन में भी प्रदर्शित किया गया था।
१९१७ में भारतीय राजनैतिक संघर्ष ने एक निश्चित मोड़ लिया। डॉ॰ एनी बीसेंट और लोकमान्य तिलक ने घरेलू शासन आंदोलन के दौरान तृतीय चित्रित ध्वज को फहराया। इस ध्वज में ५ लाल और ४ हरी क्षैतिज पट्टियां एक के बाद एक और सप्ततऋषि के अभिविन्यास में इस पर सात सितारे बने थे। ऊपरी किनारे पर बायीं ओर (खंभे की ओर) यूनियन जैक था। एक कोने में सफेद अर्धचंद्र और सितारा भी था।
कांग्रेस के सत्र बेजवाड़ा (वर्तमान विजयवाड़ा) में किया गया यहाँ आंध्र प्रदेश के एक युवक पिंगली वैंकैया ने एक झंडा बनाया (चौथा चित्र) और गांधी जी को दिया। यह दो रंगों का बना था। लाल और हरा रंग जो दो प्रमुख समुदायों अर्थात हिन्दू और मुस्लिम का प्रतिनिधित्वं करता है। गांधी जी ने सुझाव दिया कि भारत के शेष समुदाय का प्रतिनिधित्व करने के लिए इसमें एक सफेद पट्टी और राष्ट्र की प्रगति का संकेत देने के लिए एक चलता हुआ चरखा होना चाहिए।
वर्ष १९३१ तिरंगे के इतिहास में एक स्मरणीय वर्ष है। तिरंगे ध्वज को भारत के राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अपनाने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया गया और इसे राष्ट्र-ध्वज के रूप में मान्यता मिली। यह ध्वज जो वर्तमान स्वरूप का पूर्वज है, केसरिया, सफेद और मध्य में गांधी जी के चलते हुए चरखे के साथ था। यह भी स्पष्ट रूप से बताया गया था कि इसका कोई साम्प्रदायिक महत्त्व नहीं था।
२२ जुलाई १९४७ को संविधान सभा ने वर्तमान ध्वज को भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अपनाया। स्वतंत्रता मिलने के बाद इसके रंग और उनका महत्व बना रहा। केवल ध्वज में चलते हुए चरखे के स्थान पर सम्राट अशोक के धर्म चक्र को स्थान दिया गया। इस प्रकार कांग्रेस पार्टी का तिरंगा ध्वज अंतत: स्वतंत्र भारत का तिरंगा ध्वज बना।



भारत का ध्वज :-
नाम तिरंगा
प्रयोग राष्ट्रीय ध्वज एवं चिन्ह National flag and ensign
अनुपात 2:3
अंगीकृत 1947
अभिकल्पना क्षैतिज तिरंगा झंडा (भारत केसरिया, सफेद और भारत हरा) सफेद पट्टी के केंद्र में 24 तीलियां के साथ एक गहरे नीले रंग का पहिया।
अभिकल्पनाकर्ता पिंगली वैंकैया
भारत के राष्ट्रीय ध्वज जिसे तिरंगा भी कहते हैं, तीन रंग की क्षैतिज पट्टियों के बीच नीले रंग के एक चक्र द्वारा सुशोभित ध्वज है। इसकी अभिकल्पना पिंगली वैंकैया ने की थी। इसे १५ अगस्त १९४७ को अंग्रेजों से भारत की स्वतंत्रता के कुछ ही दिन पूर्व २२ जुलाई, १९४७ को आयोजित भारतीय संविधान-सभा की बैठक में अपनाया गया था। इसमें तीन समान चौड़ाई की क्षैतिज पट्टियाँ हैं, जिनमें सबसे ऊपर केसरिया, बीच में श्वेत ओर नीचे गहरे हरे रंग की पट्टी है। ध्वज की लम्बाई एवं चौड़ाई का अनुपात २:३ है। सफेद पट्टी के मध्य में गहरे नीले रंग का एक चक्र है जिसमें २४ अरे होते हैं। इस चक्र का व्यास लगभग सफेद पट्टी की चौड़ाई के बराबर होता है व रूप सम्राट अशोक की राजधानी सारनाथ में स्थित स्तंभ के शेर के शीर्षफलक के चक्र में दिखने वाले की तरह होता है।
सरकारी झंडा निर्दिष्टीकरण के अनुसार झंडा खादीमें ही बनना चाहिए। यह एक विशेष प्रकार से हाथ से काते गए कपड़े से बनता है जो महात्मा गांधी द्वारा लोकप्रिय बनाया था। इन सभी विशिष्टताओं को व्यापक रूप से भारत में सम्मान दिया जाता हैं भारतीय ध्वज संहिता के द्वारा इसके प्रदर्शन और प्रयोग पर विशेष नियंत्रण है ध्वज का हेराल्डिक वर्णन इस प्रकार से होता है:
परिचय :-
गांधी जी ने सबसे पहले 1921 में कांग्रेस के अपने झंडे की बात की थी। इस झंडे को पिंगली वेंकैया ने डिजाइन किया था। इसमें दो रंग थे लाल रंग हिन्दुओं के लिए और हरा रंग मुस्लिमों के लिए। बीच में एक चक्र था। बाद में इसमें अन्य धर्मो के लिए सफेद रंग जोड़ा गया। स्वतंत्रता प्राप्ति से कुछ दिन पहले संविधान सभा ने राष्ट्रध्वज को संशोधित किया। इसमें चरखे की जगह अशोक चक्र ने ली। इस नए झंडे की देश के दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने फिर से व्याख्या की।
21 फीट गुणा 14 फीट के झंडे पूरे देश में केवल तीन किलों के ऊपर फहराए जाते हैं। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में स्थित किला उनमें से एक है। इसके अतरिक्त कर्नाटक का नारगुंड किले और महाराष्ट्र का पनहाला किले पर भी सबसे लम्बे झंडे को फहराया जाता है।
1951 में पहली बार भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने पहली बार राष्ट्रध्वज के लिए कुछ नियम तय किए। 1968 में तिरंगा निर्माण के मानक तय किए गए। ये नियम अत्यंत कड़े हैं। केवल खादी या हाथ से काता गया कपड़ा ही झंडा बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। कपड़ा बुनने से लेकर झंडा बनने तक की प्रक्रिया में कई बार इसकी टेस्टिंग की जाती है। झंडा बनाने के लिए दो तरह की खादी का प्रयोग किया जाता है। एक वह खादी जिससे कपड़ा बनता है और दूसरा खादी-टाट। खादी के केवल कपास, रेशम और ऊन का प्रयोग किया जाता है। यहां तक की इसकी बुनाई भी सामन्य बुनाई से भिन्न होती है। ये बुनाई बेहद दुर्लभ होती है। इसे केवल पूरे देश के एक दर्जन से भी कम लोग जानते हैं। धारवाण के निकट गदग और कर्नाटक के बागलकोट में ही खादी की बुनाई की जाती है। जबकी '''हुबली''' एक मात्र लाइसेंस प्राप्त संस्थान है जहां से झंडा उत्पादन व आपूर्ति की जाती है। बुनाई से लेकर बाजार में पहुंचने तक कई बार बीआईएस प्रयोगशालाओं में इसका परीक्षण होता है। बुनाई के बाद सामग्री को परीक्षण के लिए भेजा जाता है। कड़े गुणवत्ता परीक्षण के बाद उसे वापस कारखाने भेज दिया जाता है। इसके बाद उसे तीन रंगो में रंगा जाता है। केंद्र में अशोक चक्र को काढ़ा जाता है। उसके बाद इसे फिर परीक्षण के लिए भेजा जाता है। बीआईएस झंडे की जांच करता है इसके बाद ही इसे बाजार में बेचने के लिए भेजा जाता है।

Know about Chetan Anand in Hindi

चेतन आनन्द :-
चेतन आनन्द भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध निर्माता-निर्देशक थे। वह प्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेता देव आनन्द के बड़े भाई थे। १९४९ में उन्होंने अपने भाई देव आनन्द के साथ नवकेतन फ़िल्मस् की स्थापना की जो कि फ़िल्मों का निर्माण करने वाली कम्पनी थी। उनकी छोटी बहन शान्ता कपूर प्रसिद्ध फ़िल्म निर्देशक शेखर कपूर की माँ हैं।
जन्म 3 जनवरी 1921
लाहौर, अब पाकिस्तान[1]
मृत्यु जुलाई 6, 1997 (उम्र 76)
मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
व्यवसाय फ़िल्म निर्माता, निर्देशक, अभिनेता, पटकथा लेखक
सक्रिय वर्ष १९४४-१९९४
Awards :-
1946: Palme d'Or (Best Film), Cannes Film Festival: Neecha Nagar
1965: National Film Award for Second Best Feature Film: Haqeeqat
1982: Filmfare Best Story Award: Kudrat

Know about Cannes Film Festival

कान फ़िल्मोत्सव (Cannes Film Festival )
कान फ़िल्मोत्सव (फ़्रांसिसी: le Festival international du film de Cannes or simply le Festival de Cannes), का प्रारंभ 1939 में हुआ। यह विश्व के सबसे सम्मानजनक फ़िल्म उत्सवों में से एक माना जाता है।
The Cannes International Film Festival (French: Le Festival International du Film de Cannes or just Festival de Cannes) is an annual film festival held in Cannes, France, which previews new films of all genres, including documentaries, from around the world. Founded in 1946, it is one of the most prestigious and publicised film festivals in the world. The invitation-only festival is held annually (usually in May) at the Palais des Festivals et des Congrès.
The 2014 Cannes Film Festival took place between 14–25 May 2014. New Zealand film director Jane Campion was the President of the Jury. Winter Sleep, the movie of Turkish director Nuri Bilge Ceylan won Palme d'Or.
On 1 July 2014, co-founder and former head of French pay-TV operator Canal Plus Pierre Lescure is scheduled to take over as president of the festival. France also hosts its national film awards, the César Awards, which are generally considered to be the French equivalent of the American Academy Awards.

Know about Pandit Ravi Shankar in hindi

पंडित रवि शंकर :-
पंडित रवि शंकर (बांग्ला: রবি শংকর; जन्म : रवीन्द्र शंकर चौधरी, ७ अप्रैल १९२०, बनारस - ११ दिसम्बर २०१२) एक सितार वादक और संगीतज्ञ थे। उन्होंने विश्व के कई मह्त्वपूर्ण संगीत उत्सवों में हिस्सा लिया है। उनके युवा वर्ष यूरोप और भारत में अपने भाई उदय शंकर के नृत्य समूह के साथ दौरा करते हुए बीते।
जन्म - 7 अप्रैल 1920 बनारस, ब्रिटिश भारत
मृत्यु - 11 दिसम्बर 2012 (उम्र 92) सैन डिएगो, संयुक्त राज्य अमेरिका
जीवनसाथी - सुकन्या रजन
शिक्षा :-
रविशंकर ने भारतीय शास्त्रीय संगीत की शिक्षा उस्ताद अल्लाऊद्दीन खाँ से प्राप्त की। अपने भाई उदय शंकर के नृत्य दल के साथ भारत और भारत से बाहर समय गुजारने वाले रविशंकर ने 1938 से 1944 तक सितार का अध्ययन किया और फिर स्वतंत्र तौर से काम करने लगे। बाद में उनका विवाह भी उस्ताद अल्लाऊद्दीन खाँ की बेटी अन्नपूर्णा से हुआ।
जीवन :-
इस दौरान उन्होंने सत्यजीत रे की फिल्मों में संगीत भी दिया। 1949 से 1956 तक उन्होंने ऑल इंडिया रेडियो में बतौर संगीत निर्देशक काम किया। 1960 के बाद उन्होंने यूरोप के दौरे शुरु किये और येहूदी मेन्यूहिन व बिटल्स ग्रूप के जॉर्ज हैरिशन जैसे लोगों के साथ काम करके अपनी खास पहचान बनाई। उनकी बेटी अनुष्का शंकर सितार वादक हैं तो दूसरी बेटी नोराह जोन्स भी शीर्षस्थ गायिकाओं में शुमार की जाती हैं। उन्हें १९९९ में भारत रत्न से सम्मानित किया गया। रवि शंकर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन् १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। भारतीय संगीत को दुनिया भर में सम्मान दिलाने वाले भारत रत्न और पद्मविभूषण से नवाजे गये पंडित रविशंकर को तीन बार ग्रैमी पुरस्कार से भी नवाजा गया था। उन्होंने भारतीय और पाश्चात्य संगीत के संलयन में भी बड़ी भूमिका निभाई। उनके परिवार में अन्य निम्नलिखित संगीतकार है -
अन्नपूर्णा देवी (पत्नी)
शुभेन्द्र शंकर

Wednesday, 20 May 2015

Know all about A. P. J. Abdul Kalam in HIndi

A. P. J. Abdul Kalam (अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम)
अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम (तमिल: அவுல் பகீர் ஜைனுலாப்தீன் அப்துல் கலாம்; जन्म 15 अक्टूबर, 1931, रामेश्वरम, तमिलनाडु, भारत), जिन्हें डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति हैं। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जानेमाने वैज्ञानिक और अभियंता के रूप में विख्यात हैं।
==================================================
प्रारंभिक जीवन :---->>>>
15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम परिवार में इनका जन्म हुआ | इनके पिता जैनुलाब्दीन न तो ज़्यादा पढ़े-लिखे थे, न ही पैसे वाले थे। इनके पिता मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। अब्दुल कलाम सयुंक्त परिवार में रहते थे। परिवार की सदस्य संख्या का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि यह स्वयं पाँच भाई एवं पाँच बहन थे और घर में तीन परिवार रहा करते थे। अब्दुल कलाम के जीवन पर इनके पिता का बहुत प्रभाव रहा। वे भले ही पढ़े-लिखे नहीं थे, लेकिन उनकी लगन और उनके दिए संस्कार अब्दुल कलाम के बहुत काम आए।
===================================================
विद्यार्थी जीवन ---->>>>>>>>>
पाँच वर्ष की अवस्था में रामेश्वरम के पंचायत प्राथमिक विद्यालय में उनका दीक्षा-संस्कार हुआ था। उनके शिक्षक इयादुराई सोलोमन ने उनसे कहा था कि 'जीवन मे सफलता तथा अनुकुल परिनाम प्राप्त करने के लिए तीव्र ईच्छा, आस्था, अपेक्षा इन तीन शक्तियो को भलीभान्ती समझ लेना और उन पर प्रभुत्व स्थापित करना चाहिए।' अब्दुल कलाम ने अपनी आरंभिक शिक्षा जारी रखने के लिए अख़बार वितरित करने का कार्य भी किया था। कलाम ने 1958 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। स्नातक होने के बाद उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम करने के लिये भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान में प्रवेश किया। 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में आये जहाँ उन्होंने सफलतापूर्वक कई उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में अपनी भूमिका निभाई। परियोजना निदेशक के रूप में भारत के पहले स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी3 के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई जिससे जुलाई 1980 में रोहिणी उपग्रह सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया था।

Monday, 18 May 2015

Varanasi city & history in HIndi

वाराणसी शहर & इतिहास :-
वाराणसी (अंग्रेज़ी: Vārāṇasī, हिन्दुस्तानी उच्चारण: [ʋaːˈɾaːɳəsiː]) भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का प्रसिद्ध शहर है। इसे 'बनारस' और 'काशी' भी कहते हैं। इसे हिन्दू धर्म में सर्वाधिक पवित्र शहर माना जाता है और इसे अविमुक्त क्षेत्र कहा जाता है। इसके अलावा बौद्ध एवं जैन धर्म में भी इसे पवित्र माना जाता है। यह संसार के प्राचीनतम बसे शहरों में से एक और भारत का प्राचीनतम बसा शहर है।
काशी नरेश (काशी के महाराजा) वाराणसी शहर के मुख्य सांस्कृतिक संरक्षक एवं सभी धार्मिक क्रिया-कलापों के अभिन्न अंग हैं। वाराणसी की संस्कृति का गंगा नदी एवं इसके धार्मिक महत्त्व से अटूट रिश्ता है। ये शहर सहस्रों वर्षों से भारत का, विशेषकर उत्तर भारत का सांस्कृतिक एवं धार्मिक केन्द्र रहा है। हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत का बनारस घराना वाराणसी में ही जन्मा एवं विकसित हुआ है। भारत के कई दार्शनिक, कवि, लेखक, संगीतज्ञ वाराणसी में रहे हैं, जिनमें कबीर, वल्लभाचार्य, रविदास, स्वामी रामानंद, त्रैलंग स्वामी, शिवानन्द गोस्वामी, मुंशी प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद, आचार्य रामचंद्र शुक्ल, पंडित रवि शंकर, गिरिजा देवी, पंडित हरि प्रसाद चौरसिया एवं उस्ताद बिस्मिल्लाह खां आदि कुछ हैं। गोस्वामी तुलसीदास ने हिन्दू धर्म का परम-पूज्य ग्रंथ रामचरितमानस यहीं लिखा था और गौतम बुद्ध ने अपना प्रथम प्रवचन यहीं निकट ही सारनाथ में दिया था।
वाराणसी में चार बड़े विश्वविद्यालय स्थित हैं: बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइयर टिबेटियन स्टडीज़ और संपूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय। यहां के निवासी मुख्यतः काशिका भोजपुरी बोलते हैं, जो हिन्दी की ही एक बोली है। वाराणसी को प्रायः 'मंदिरों का शहर', 'भारत की धार्मिक राजधानी', 'भगवान शिव की नगरी', 'दीपों का शहर', 'ज्ञान नगरी' आदि विशेषणों से संबोधित किया जाता है।
प्रसिद्ध अमरीकी लेखक मार्क ट्वेन लिखते हैं: "बनारस इतिहास से भी पुरातन है, परंपराओं से पुराना है, किंवदंतियों (लीजेन्ड्स) से भी प्राचीन है और जब इन सबकों एकत्र कर दें, तो उस संग्रह से भी दोगुना प्राचीन है।"
इतिहास :-
पौराणिक कथाओं के अनुसार, काशी नगर की स्थापना हिन्दू भगवान शिव ने लगभग ५००० वर्ष पूर्व की थी,[7] जिस कारण ये आज एक महत्त्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। ये हिन्दुओं की पवित्र सप्तपुरियों में से एक है। स्कन्द पुराण, रामायण, महाभारत एवं प्राचीनतम वेद ऋग्वेद सहित कई हिन्दू ग्रन्थों में इस नगर का उल्लेख आता है। सामान्यतया वाराणसी शहर को लगभग ३००० वर्ष प्राचीन माना जाता है।[30], परन्तु हिन्दू परम्पराओं के अनुसार काशी को इससे भी अत्यंत प्राचीन माना जाता है। नगर मलमल और रेशमी कपड़ों, इत्रों, हाथी दांत और शिल्प कला के लिये व्यापारिक एवं औद्योगिक केन्द्र रहा है। गौतम बुद्ध (जन्म ५६७ ई.पू.) के काल में, वाराणसी काशी राज्य की राजधानी हुआ करता था। प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेन त्सांग ने नगर को धार्मिक, शैक्षणिक एवं कलात्मक गतिविधियों का केन्द्र बताया है और इसका विस्तार गंगा नदी के किनारे ५ कि.मी. तक लिखा है।
विभूतियाँ
काशी में प्राचीन काल से समय समय पर अनेक महान विभूतियों का प्रादुर्भाव या वास होता रहा हैं। इनमें से कुछ इस प्रकार हैं:
महर्षि अगस्त्य
धन्वंतरि
गौतम बुद्ध
संत कबीर
अघोराचार्य बाबा कानीराम
लक्ष्मीबाई
पाणिनी
पार्श्वनाथ
पतञ्जलि
संत रैदास
स्वामी रामानन्दाचार्य
वल्लभाचार्य
शंकराचार्य
गोस्वामी तुलसीदास
महर्षि वेदव्यास
वल्लभाचार्य

Hindustani classical music in Hindi

हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत :-
हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत भारतीय शास्त्रीय संगीत के दो प्रमुख आयामों में से एक है। दूसरा प्रमुख आयाम है - कर्नाटक संगीत।
11वीं और 12वीं शताब्दी में मुस्लिम सभ्यता के प्रसार ने भारतीय संगीत की दिशा को नया आयाम दिया। यह दिशा प्रोफेसर ललित किशोर सिंह के अनुसार यूनानी पायथागॉरस के ग्राम व अरबी फ़ारसी ग्राम के अनुरूप आधुनिक बिलावल ठाठ की स्थापना मानी जा सकती है। इससे पूर्व काफी ठाठ शुद्ध मेल था। किंतु शुद्ध मेल के अतिरिक्त उत्तर भारतीय संगीत में अरबी-फ़ारसी अथवा अन्य विदेशी संगीत का कोई दूसरा प्रभाव नहीं पड़ा। "मध्यकालीन मुसलमान गायकों और नायकों ने भारतीय संस्कारों को बनाए रखा।"
राजदरबार संगीत के प्रमुख संरक्षक बने और जहां अनेक शासकों ने प्राचीन भारतीय संगीत की समृद्ध परंपरा को प्रोत्साहन दिया वहीं अपनी आवश्यकता और रुचि के अनुसार उन्होंने इसमें अनेक परिवर्तन भी किए। हिंदुस्तानी संगीत केवल उत्तर भारत का ही नहीं। बांगलादेश और पाकिस्तान का भी शास्त्रीय संगीत है।
अवधारणाएँ :-
श्रुति
राग
मेलकर्ता
सांख्य
स्वर
ताल
मुद्रा

Know about "Flute (basuri)" in Hindi.

बांसुरी काष्ठ वाद्य परिवार का एक संगीत उपकरण है। नरकट वाले काष्ठ वाद्य उपकरणों के विपरीत, बांसुरी एक एरोफोन या बिना नरकट वाला वायु उपकरण है जो एक छिद्र के पार हवा के प्रवाह से ध्वनि उत्पन्न करता है। होर्नबोस्टल-सैश्स के उपकरण वर्गीकरण के अनुसार, बांसुरी को तीव्र-आघात एरोफोन के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
बांसुरीवादक को एक फ्लूट प्लेयर, एक फ्लाउटिस्ट, एक फ्लूटिस्ट, या कभी कभी एक फ्लूटर के रूप में संदर्भित किया जाता है।
बांसुरी पूर्वकालीन ज्ञात संगीत उपकरणों में से एक है। करीब 40,000 से 35,000 साल पहले की तिथि की कई बांसुरियां जर्मनी के स्वाबियन अल्ब क्षेत्र में पाई गई हैं। यह बांसुरियां दर्शाती हैं कि यूरोप में एक विकसित संगीत परंपरा आधुनिक मानव की उपस्थिति के प्रारंभिक काल से ही अस्तित्व में है।

Know about "Aryabhata" in HIndi.

आर्यभट ( Aryabhata, 476-550 ) प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषविद् और गणितज्ञ थे। इन्होंने आर्यभटीय ग्रंथ की रचना की जिसमें ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतों का प्रतिपादन है। इसी ग्रंथ में इन्होंने अपना जन्मस्थान कुसुमपुर और जन्मकाल शक संवत् 398 लिखा है। बिहार में वर्तमान पटना का प्राचीन नाम कुसुमपुर था लेकिन आर्यभट का कुसुमपुर दक्षिण में था, यह अब लगभग सिद्ध हो चुका है।
एक अन्य मान्यता के अनुसार उनका जन्म महाराष्ट्र के अश्मक देश में हुआ था। उनके वैज्ञानिक कार्यों का समादर राजधानी में ही हो सकता था। अतः उन्होंने लम्बी यात्रा करके आधुनिक पटना के समीप कुसुमपुर में अवस्थित होकर राजसान्निध्य में अपनी रचनाएँ पूर्ण की।
जीवनी :->
यद्यपि आर्यभट के जन्म के वर्ष का आर्यभटीय में स्पष्ट उल्लेख है, उनके जन्म के वास्तविक स्थान के बारे में विद्वानों के मध्य विवाद है। कुछ मानते हैं कि वे नर्मदा और गोदावरी के मध्य स्थित क्षेत्र में पैदा हुए थे, जिसे अश्माका के रूप में जाना जाता था और वे अश्माका की पहचान मध्य भारत से करते हैं जिसमे महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश शामिल है, हालाँकि आरंभिक बौद्ध ग्रन्थ अश्माका को दक्षिण में, दक्षिणापथ या दक्खन के रूप में वर्णित करते हैं, जबकि अन्य ग्रन्थ वर्णित करते हैं कि अश्माका के लोग अलेक्जेंडर से लड़े होंगे, इस हिसाब से अश्माका को उत्तर की तरफ और आगे होना चाहिए.
एक ताजा अध्ययन के अनुसार आर्यभट्ट चाम्रवत्तम (१०एन५१, ७५ई४५), केरल के रहने वाले थे। अध्ययन के अनुसार अस्मका एक जैन प्रदेश था जो की श्रावान्बेल्गोला के चारों तरफ फैला हुआ था और यहाँ के पत्थर के खम्बों के कारण इसका नाम अस्मका पड़ा. चाम्रवत्तम इस जैन बस्ती का हिस्सा था, इसका प्रमाण है भारतापुझा नदी जिसका नाम जैनों के पौराणिक राजा भारता के नाम पर रखा गया है। आर्यभट्ट ने भी युगों को परिभाषित करते वक्त राजा भारता का जिक्र किया है- दासगीतिका के पांचवें छंद में राजा भारत के समय तक बीत चुके काल का वर्णन आता है। उन दिनों में कुसुमपुरा में एक प्रसिद्द विश्वविद्यालय था जहाँ जैनों का निर्णायक प्रभाव था और आर्यभट्ट का काम इस प्रकार कुसुमपुरा पहुँच सका और उसे पसंद भी किया गया।
हालाँकि ये बात काफी हद तक निश्चित है की वे किसी न किसी वक्त पर कुसुमपुरा उच्च शिक्षा के लिए गए थे और कुछ समय के लिए वहां रहे भी थे। भास्कर I (६२९ ई.) ने कुसुमपुरा की पहचान पाटलिपुत्र (आधुनिक पटना) के रूप में की है। गुप्त साम्राज्य के अन्तिम दिनों में वे वहां रहा करते थे, यह वह समय था जिसे भारत के स्वर्णिम युग के रूप में जाना जाता है, विष्णुगुप्त के पूर्व बुद्धगुप्त और कुछ छोटे राजाओं के साम्राज्य के दौरान उत्तर पूर्व में हूणों का आक्रमण शुरू हो चुका था।
आर्यभट्ट अपनी खगोलीय प्रणालियों के लिए संदर्भ के रूप में श्रीलंका का उपयोग करते थे और आर्यभटीय में अनेक अवसरों पर श्रीलंका का उल्लेख किया है।

Sunday, 17 May 2015

Know about "Eden Gardens" stadium.

इडेन गार्डेंस :-
मैदान की जानकारी
स्थिति -कोलकाता
स्थापना - 1865
दर्शक क्षमता - 90,000
स्वामित्व -भारतीय सेना
संचालक -बंगाल क्रिकेट संघ
Tenants -बंगाल क्रिकेट टीम, कोलकाता नाइट राइडर्स
End names -उच्च न्यायालय छोर
पवेलियन छोर
अंतर्राष्ट्रीय जानकारी
प्रथम टेस्ट- 5 Jan - 8 Jan 1934: भारत v इंग्लैंड
अंतिम टेस्ट - 30 Nov - 4 Dec 2007: भारत v पाकिस्तान
First ODI - 18 Feb 1987: भारत v पाकिस्तान
Last ODI - 8 Feb 2007: भारत v श्रीलंका

Know about "Sambhar Lake" in hindi.

सांभर झील
भारत के राजस्थान राज्य में जयपुर नगर के समीप स्थित यह लवण
जल (खारे पानी) की झील है। यह झील समुद्र तल से 1,200 फुट की ऊँचाई पर स्थित है। जब यह भरी रहती है तब इसका क्षेत्रफल 90 वर्ग मील रहता है। इसमें तीन नदियाँ आकर गिरती हैं। इस झील से बड़े पैमाने पर नमक का उत्पादन किया जाता है। अनुमान है कि अरावली के शिष्ट और नाइस के गर्तों में भरा हुआ गाद (silt) ही नमक का स्रोत है। गाद में स्थित विलयशील सोडियम यौगिक वर्षा के जल में घुसकर नदियों द्वारा झील में पहुँचाता है और जल के वाष्पन के पश्चात झील में नमक के रूप में रह जाता है।
पौराणिक उल्लेख :-
महाकाव्य महाभारत के अनुसार यह क्षेत्र असुर राज वृषपर्व के साम्राज्य का एक भाग था और यहाँ पर असुरों के कुलगुरु शुक्राचार्य निवास करते थे। इसी स्थान पर शुक्राचार्य की पुत्री देवयानी का विवाह नरेश ययाति के साथ सम्पन्न हुआ था। देवयानी को समर्पित एक मंदिर झील के पास स्थित है। अवेध बोरवेल के चलते तथा परवासी परिंदों को सुरक्षित रखने के लिए नरेश कादयान द्वारा जनहित याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर केर दी है। एक अन्य हिंदू मान्यता के अनुसार, शाकम्भरी देवी जो कि चौहान राजपूतों की रक्षक देवी हैं, ने यहां स्थित एक वन को बहुमूल्य धातुओं के एक मैदान में परिवर्तित कर दिया था। लोग इस संपदा को लेकर होने वाले संभावित झगड़ों के लेकर चिंतित हो गये और इसे एक वरदान के स्थान पर श्राप समझने लगे। लोगों ने देवी से अपना वरदान वापस लेने की प्रार्थना की तो देवी ने सारी चांदी को नमक में परिवर्तित कर दिया। यहाँ शाकम्भरी देवी को समर्पित एक मंदिर भी उपस्थित है।

Know about "Mount Everest" in Hindi.

एवरेस्ट पर्वत :-
एवरेस्ट पर्वत (नेपाली:सरगमाथा, संस्कृत: देवगिरि) दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है, जिसकी ऊँचाई 8,852 मीटर है। पहले इसे XV के नाम से जाना जाता था। माउंट एवरेस्ट की ऊँचाई उस समय 29,002 फीट या 8,840 मीटर मापी गई। वैज्ञानिक सर्वेक्षणों में कहा जाता है कि इसकी ऊंचाई प्रतिवर्ष 2 से॰मी॰ के हिसाब से बढ़ रही है। नेपाल में इसे स्थानीय लोग सगरमाथा (अर्थात् स्वर्ग का शीर्ष) नाम से जानते हैं, जो नाम नेपाल के इतिहासविद बाबुराम आचार्य ने सन् 1930 के दशक में रखा था - आकाश का भाल। तिब्बत में इसे सदियों से चोमोलंगमा अर्थात पर्वतों की रानी के नाम से जाना जाता है।
सर्वे ऑफ नेपाल द्वारा प्रकाशित, (1:50,000 के स्केल पर 57 मैप सेट में से 50वां मैप) “फर्स्ट जॉईन्ट इन्सपेक्सन सर्वे सन् 1979-80, नेपाल-चीन सीमा के मुख्य पाठ्य के साथ अटैच” पृष्ठ पर ऊपर की ओर बीच में, लिखा है, सीमा रेखा, की पहचान की गई है जो चीन और नेपाल को अलग करते हैं, जो ठीक शिखर से होकर गुजरता है। यह यहाँ सीमा का काम करता है और चीन-नेपाल सीमा पर मुख्य हिमालयी जलसं
भर विभाजित होकर दोनो तरफ बहता है।

Know about "Devanagari Lipi" in Hindi.



देवनागरी 

एक लिपि है जिसमें अनेक भारतीय भाषाएँ तथा कुछ विदेशी भाषाएं लिखीं जाती हैं। देवनागरी बायें से दायें लिखी जाती है, अौर इसकी (साथ ही ज्यादातर उत्तर-भारतीय लिपियों की भी) पहचान एक क्षैतिज रेखा से है। संस्कृत, पालि, हिन्दी, मराठी, कोंकणी, सिन्धी, कश्मीरी, डोगरी, नेपाली, नेपाल भाषा (तथा अन्य नेपाली उपभाषाएँ), तामाङ भाषा, गढ़वाली, बोडो, अंगिका, मगही, भोजपुरी, मैथिली, संथाली आदि भाषाएँ देवनागरी में लिखी जाती हैं। इसके अतिरिक्त कुछ स्थितियों में गुजराती, पंजाबी, बिष्णुपुरिया मणिपुरी, रोमानी और उर्दू भाषाएं भी देवनागरी में लिखी जाती हैं।


देवनागरी लिपि के गुण



एक ध्वनि के लिए एक ही वर्ण संकेत।
एक वर्ण संकेत से अनिवार्यतः एक ही ध्वनि व्यक्त।
जो ध्वनि का नाम वही वर्ण का नाम।
मूक वर्ण नहीं।
जो बोला जाता है वही लिखा जाता है।
एक वर्ण में दूसरे वर्ण का भ्रम नहीं।
उच्चारण के सूक्ष्मतम भेद को भी प्रकट करने की क्षमता।
वर्णमाला ध्वनि वैज्ञानिक पद्धति के बिल्कुल अनुरूप।
प्रयोग बहुत व्यापक (संस्कृत, हिन्दी, मराठी, नेपाली की एकमात्र लिपि)।
भारत की अनेक लिपियों के निकट।







निम्नलिखित स्वर आधुनिक हिन्दी (खड़ी बोली) के लिये दिये गये हैं। संस्कृत में इनके उच्चारण थोड़े अलग होते हैं।


संस्कृत में ऐ दो स्वरों का युग्म होता है और "अ-इ" या "आ-इ" की तरह बोला जाता है। इसी तरह औ "अ-उ" या "आ-उ" की तरह बोला जाता है।


इसके अलावा हिन्दी और संस्कृत में ये वर्णाक्षर भी स्वर माने जाते हैं :


ऋ -- आधुनिक हिन्दी में "रि" की तरह

ॠ -- केवल संस्कृत में

ऌ -- केवल संस्कृत में

ॡ -- केवल संस्कृत में

अं -- आधे न्, म्, ङ्, ञ्, ण् के लिये या स्वर का नासिकीकरण करने के लिये

अँ -- स्वर का नासिकीकरण करने के लिये

अः -- अघोष "ह्" (निःश्वास) के लिये

ऍ -- अर्धचंद्र इसका उपयोग अंग्रेजी शब्दोंका हिंदीमे परिपूर्ण उच्चारण तथा लेखन करने के लिये किया जाता है।


व्यंजन


जब किसी स्वर प्रयोग नहीं हो, तो वहाँ पर 'अ' (अर्थात श्वा का स्वर) माना जाता है। स्वर के न होने को हलन्त्‌ अथवा विराम से दर्शाया जाता है। जैसे कि क्‌ ख्‌ ग्‌ घ्‌।






Credit goes to Wikipedia page

Know about Ashoka's Sinhcturmuk chapiter ih hindi

अशोक का सिंहचतुर्मुख स्तम्भशीर्ष :-
सारनाथ में अशोक ने जो स्तम्भ बनवाया था उसके शीर्ष भाग को सिंहचतुर्मुख कहते हैं। इस मूर्ति में चार भारतीय सिंह पीठ-से-पीठ सटाये खड़े हैं। अशोक स्तम्भ अब भी अपने मूल स्थान पर स्थित है किन्तु उसका यह शीर्ष-भाग सारनाथ के संग्रहालय में रखा हुआ है। यह सिंहचतुर्मुखस्तम्भशीर्ष ही भारत के राष्ट्रीय चिह्न के रूप में स्वीकार किया गया है। इसके आधार के मध्यभाग में स्थित धर्मचक्र को भारत के राष्ट्रीय ध्वज में बीच की सफेद पट्टी में रखा गया है।
भारत के राष्ट्रीय प्रतीक
ध्वज तिरंगा
राष्ट्रीय चिह्न अशोक की लाट
राष्ट्र-गान जन गण मन
राष्ट्र-गीत वन्दे मातरम्
पशु बाघ
जलीय जीव गंगा डालफिन
पक्षी मोर
पुष्प कमल
वृक्ष बरगद
फल आम
खेल मैदानी हॉकी
पञ्चांग शक संवत
संदर्भ "भारत के राष्ट्रीय प्रतीक"
भारतीय दूतावास, लन्दन

Know about "Homi Jahangir Baba" in HIndi.

होमी जहांगीर भाभा :
होमी जहांगीर भाभा (30 अक्टूबर, 1909 - 24 जनवरी, 1966) भारत के एक प्रमुख वैज्ञानिक और स्वप्नदृष्टा थे जिन्होंने भारत के परमाणु उर्जा कार्यक्रम की कल्पना की थी। उन्होने मुट्ठी भर वैज्ञानिकों की सहायता से मार्च 1944 में नाभिकीय उर्जा पर अनुसन्धान आरम्भ किया। उन्होंने नाभिकीय विज्ञान में तब कार्य आरम्भ किया जब अविछिन्न शृंखला अभिक्रिया का ज्ञान नहीं के बराबर था और नाभिकीय उर्जा से विद्युत उत्पादन की कल्पना को कोई मानने को तैयार नहीं था। उन्हें 'आर्किटेक्ट ऑफ इंडियन एटॉमिक एनर्जी प्रोग्राम' भी कहा जाता है। भाभा का जन्म मुम्बई के एक सभ्रांत पारसी परिवार में हुआ था। उनकी कीर्ति सारे संसार में फैली। भारत वापस आने पर उन्होंने अपने अनुसंधान को आगे बढ़ाया। भारत को परमाणु शक्ति बनाने के मिशन में प्रथम पग के तौर पर उन्होंने 1945 में मूलभूत विज्ञान में उत्कृष्टता के केंद्र टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआइएफआर) की स्थापना की। डा. भाभा एक कुशल वैज्ञानिक और प्रतिबद्ध इंजीनियर होने के साथ-साथ एक समर्पित वास्तुशिल्पी, सतर्क नियोजक, एवं निपुण कार्यकारी थे। वे ललित कला व संगीत के उत्कृष्ट प्रेमी तथा लोकोपकारी थे। 1947 में भारत सरकार द्वारा गठित परमाणु ऊर्जा आयोग के प्रथम अध्यक्ष नियुक्त हुए। १९५३ में जेनेवा में अनुष्ठित विश्व परमाणुविक वैज्ञानिकों के महासम्मेलन में उन्होंने सभापतित्व किया। भारतीय परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम के जनक का २४ जनवरी सन १९६६ को एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था।

होमी जहांगीर भाभा (१९०९-१९६६)
जन्म - 30 अक्टूबर 1909 मुंबई, भारत
मृत्यू - 24 जनवरी 1966 मोंट ब्लांक, फ्रांस
निवास - भारत
राष्ट्रीयता - भारतीय
क्षेत्र - परमाणु वैज्ञानिक

संस्थाएँ :--
Cavendish Laboratories
भारतीय विज्ञान संस्थान
टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान
Atomic Energy Commission of India
मातृसंस्था - कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
डॉक्टरेट सलाहकार - पॉल डिराक, रॉल्फ एच फाउलर
डॉक्टरेट छात्र - बी भी श्रीकांतन
प्रसिद्ध कार्य - भाभा स्कैटेरिंग

शिक्षा :
उन्होंने मुंबई से कैथड्रल और जॉन केनन स्कूल से पढ़ाई की। फिर एल्फिस्टन कॉलेज मुंबई और रोयाल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस से बीएससी पास किया। मुंबई से पढ़ाई पूरी करने के बाद भाभा वर्ष 1927 में इंग्लैंड के कैअस कॉलेज, कैंब्रिज इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने गए। कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में रहकर सन् 1930 में स्नातक उपाधि अर्जित की। सन् 1934 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से उन्होंने डाक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। जर्मनी में उन्होंने कास्मिक किरणों पर अध्ययन और प्रयोग किए। हालांकि इंजीनियरिंग पढ़ने का निर्णय उनका नहीं था। यह परिवार की ख्वाहिश थी कि वे एक होनहार इंजीनियर बनें। होमी ने सबकी बातों का ध्यान रखते हुए, इंजीनियरिंग की पढ़ाई जरूर की, लेकिन अपने प्रिय विषय फिजिक्स से भी खुद को जोड़े रखा। न्यूक्लियर फिजिक्स के प्रति उनका लगाव जुनूनी स्तर तक था। उन्होंने कैंब्रिज से ही पिता को पत्र लिख कर अपने इरादे बता दिए थे कि फिजिक्स ही उनका अंतिम लक्ष्य है।

Know what is Atom bomb in HIndi?

परमाणु बम :
नाभिकीय अस्त्र या परमाणु बम एक विस्फोटक युक्ति है जिसकी विध्वंशक शक्ति का आधार नाभिकीय अभिक्रिया होती है। यह नाभिकीय संलयन (nuclear fusion) या नाभिकीय विखण्डन (nuclear fission) या इन दोनो प्रकार की नाभिकीय अभिक्रियों के सम्मिलन से बनाये जा सकते हैं। दोनो ही प्रकार की अभिक्रोंके परिणामस्वरूप थोड़े ही सामग्री से भारी मात्रा में उर्जा उत्पन्न होती है। आज का एक हजार किलो से थोड़ा बड़ा नाभिकीय हथियार इतनी उर्जा उत्पन्न कर सकता है जितनी कई अरब किलो के परम्परागत विस्फोटकों से ही उत्पन्न हो सकती है। नाभिकीय हथियार महाविनाशकारी हथियार (weapons of mass destruction) कहे जाते हैं।
द्वितीय विश्वयुद्ध में सबसे अधिक शक्तिशाली विस्फोटक, जो प्रयुक्त हुआ था, उसका नाम 'ब्लॉकबस्टर' (blockbuster) था। इसके निर्माण में तब तक ज्ञात प्रबलतम विस्फोटक ट्राईनाइट्रीटोलीन (TNT) का 11 टन प्रयुक्त हुआ था। इस विस्फोटक से 2000 गुना अधिक शक्तिशाली प्रथम परमाणु बम था जिसका विस्फोट टी. एन. टी. के 22,000 टन के विस्फोट के बराबर था। अब तो प्रथम परमाणु बम से बहुत अधिक शाक्तिशाली परमाणु बम बने हैं।
================================================
सन् १९४५ में जापान के नागासाकी पर गिराये बम से उत्पन्न कुकुरमुता के सदृश बादल - ये बादल बम के गिरने के स्थान से लगभग १८ किमी उपर तक उठे थे।
================================================
परिचय :परमाणु बम में विस्फुटित होनेवाला पदार्थ यूरेनियम या प्लुटोनियम होता है। यूरेनियम या प्लुटोनियम के परमाणु विखंडन (Fission) से ही शाक्ति प्राप्त होती है। इसके लिए परमाणु के केंद्रक (nucleus) में न्यूट्रॉन (neutron) से प्रहार किया जाता है। इस प्रहार से ही बहुत बड़ी मात्रा में ऊर्जा प्राप्त होती है। इस प्रक्रम को भौतिक विज्ञानी नाभिकीय विखंडन (nuclear fission) कहते हैं। परमाणु के नाभिक के अभ्यंतर में जो न्यूट्रॉन होते हैं उन्हीं से न्यूट्रान मुक्त होते हैं। ये न्यूट्रॉन अन्य परमाणुओं पर प्रहार करते हैं और उनसे फिर विखंडन होता है। ये फिर अन्य परमाणुओं का विखंडन करते हैं। इस प्रकार शृंखला क्रियाएँ आरंभ होती हैं। परमाणु बम की अनियंत्रित शृंखला क्रियाओं के फलस्वरूप भीषण प्रचंडता के साथ परमाणु का विस्फोट होता है।