Posts

Showing posts from May, 2015

All About our Earth In Hindi GK

All About our Earth
Surface Area : 510,100,500 Sq.Kms.
Land Surface : 148,950,800 Sq.Kms.(29.08%)
Water Surface : 361,149,700 Sq.Kms.(70.92%)
Equatorial circumference : 40,075 Kms.
Polar circumference : 40,008 Kms
Equatorial radius : 6,377 Kms.
Equatorial Diameter : 1,22,756 Kms.
Polar radius : 6,357 Kms.
Polar Diameter : 12,714 Kms.
Mean distance from the Sun : 14,95,97,900 Kms.
Period of revolution : 365 days 5 hours 48 mts.45.51 Sec.
Period of rotation : 23 hrs. 56 mts. 4.091 Sec.
Escape Velocity fromthe earth : 11 Km per Sec. (minimum)


हमारे सभी पृथ्वी के बारे में
सतह क्षेत्र: 510,100,500 वर्ग किमी।
भूमि की सतह: 148,950,800 वर्ग किमी (29.08%)।
जल सतह: 361,149,700 वर्ग किमी (70.92%)।
इक्वेटोरियल परिधि: 40,075 किलोमीटर।
ध्रुवीय परिधि: 40,008 कि.मी.
इक्वेटोरियल त्रिज्या: 6377 किलोमीटर।
इक्वेटोरियल व्यास: 1,22,756 किलोमीटर।
ध्रुवीय त्रिज्या: 6357 किलोमीटर।
ध्रुवीय व्यास: 12,714 किलोमीटर।
14,95,97,900 किलोमीटर: सूर्य से दूरी मतलब।
क्रांति की अवधि: 365 दिन 5 घंटे 48 mts.45.51 सेक।
रोटे…

Facts of cities in Hindi GK

City of Dreaming Spires - Oxford (England)
City of Eternal Springs - Quito ( South America)
City of Flowers - Cape Town ( south Africa)
City of Golden Gate - San Francisco (USA)
City of Magnificent Buildings - Washington (USA)
City of Seven Hills - Rome (Italy)
City of Skyscrapers - New York (USA)


सपना शिखर के सिटी - ऑक्सफोर्ड (इंग्लैंड)
अनन्त स्प्रिंग्स के सिटी - क्विटो (दक्षिण अमेरिका)
फूलों की सिटी - केप टाउन (दक्षिण अफ़्रीका)
गोल्डन गेट के सिटी - सैन फ्रांसिस्को (यूएसए)
शानदार इमारतों के शहर - वाशिंगटन (यूएसए)
सात पहाड़ियों के सिटी - रोम (इटली)
गगनचुंबी इमारतों के शहर - न्यूयॉर्क (यूएसए)

Geography short hindi General knowledge

ग्रेनाइट सिटी - एबरडीन
हैंगिंग घाटियों - स्विट्जरलैंड की घाटी
साधु किंगडम - कोरिया
मछली तालाब - अटलांटिक महासागर
पवित्र भूमि - फिलिस्तीन
पृथ्वी के मानव भूमध्य रेखा - हिमालय
द्वीप महाद्वीप - ऑस्ट्रेलिया
लौंग के द्वीप - जंजीबार
मोती के द्वीप - बहरीन (फारस की खाड़ी)
धूप के द्वीप - वेस्ट इंडीज
यूरोप की कश्मीर - स्विटज़रलैंड

Granite City - Aberdeen
Hanging Valleys - Valley of Switzerland
Hermit Kingdom - Korea
Herring Pond - Atlantic Ocean
Holy Land - Palestine
Human Equator of the Earth - Himalayas
Island Continent - Australia
Island of Cloves - Zanzibar
Island of Pearls - Bahrain (Persian Gulf)
Islands of Sunshine - West Indies
Kashmir of Europe - Switzerland

Do you know Meaning of these Words ?

Do you know Meaning of these Words:
♦ NEWS = North East West South
♦ CHESS = Chariot,Horse, Elephant, Soldiers
♦ COLD = chronic Obstructive Lung Disease
♦ JOKE = Joy of Kids Entertainment
♦ AIM = Ambition in Mind
♦ DATE = Day and Time Evolution
♦ EAT = Energy And Taste
♦ TEA = Taste And Energy

Know Computer memory size

1 Bit = Binary Digit
8 Bits = 1 Byte
1024 Bytes = 1 Kilobyte
1024 Kilobytes = 1 Megabyte
1024 Megabytes = 1 Gigabyte
1024 Gigabytes = 1 Terabyte
1024 Terabytes = 1 Petabyte
1024 Petabytes = 1 Exabyte
1024 Exabytes = 1 Zettabyte
1024 Zettabytes = 1 Yottabyte
1024Yottabytes = 1 Brontobyte
1024 Brontobytes = 1 Geopbyte
1024 Geopbyte =1 Saganbyte
1024 Saganbyte  =1 Pijabyte

TOP 10 WEBSITES Launched date

TOP 10 WEBSITES & Date Launched  !!!
* Google : Sept 4, 1998
* Facebook : Feb 4, 2004
* YouTube : Feb 14, 2005
* Yahoo ! : March 1994
* Baidu : Jan 1, 2000
* Wikipedia : Jan 15, 2001
* Windows Live : Nov 1, 2005
* Amazon.com : 1994
* Tencent QQ : February 1999
* Twitter : March 21, 2006



टॉप 10 वेबसाइटों और किस तारीख शुरू !!!
* गूगल: 4 सितम्बर 1998
* फेसबुक: 4 फ़रवरी 2004
* यूट्यूब: फ़रवरी 14, 2005
* याहू! : मार्च 1994
* Baidu: 1 जनवरी 2000
* विकिपीडिया: 15 जनवरी 2001
* विंडोज लाइव: 1 नवंबर 2005
* Amazon.com: 1994
* Tencent QQ: फ़रवरी 1999
* चहचहाना: 21 मार्च 2006

Father of Nation List

1. Afghanistan —Ahmad Shah Durrani
2. Argentina—Don José de San Martín
3. Australia— Sir Henry Parkes
4. Bahamas —Sir Lynden Pindling
5. Bangladesh— Sheikh Mujibur Rahman
6. Bolivia —Simón Bolívar
7. Brazil —Dom Pedro I andJosé Bonifácio de Andrada e Silva
8. Burma— Aung San
9. Cambodia— Norodom Sihanouk
10. Chile— Bernardo O'Higgins
11. Republic of China— Sun Yat-sen
12. Colombia —Simón Bolívar
13. Sweden— Gustav I of Sweden
14. Croatia— Ante Starčević
15. Cuba —Carlos Manuel de Céspedes
16. Dominican Republic— Juan Pablo Duarte
17. Ecuador— Simón Bolívar
18. Ghana— Kwame Nkrumah
19. Guyana— Cheddi Jagan
20. Haiti —Jean-Jacques Dessalines
21. India— Mohandas Karamchand Gandhi
22. Indonesia —Sukarno
23. Iran —Cyrus the Great
24. Israel —Theodor Herzl
25. Italy —Victor Emmanuel II
26. Kenya —Jomo Kenyatta
27. Republic of Korea— Kim Gu
28. Kosovo —Ibrahim Rugova
29. Lithuania— Jonas Basanavičius
30. Macedonia— Krste Misirkov
31. Malaysia—Tunku Abdul Rahman
32. Mauritius —Sir Seewoo…

New 7 Wonders of the World

विश्व की नई 7 आश्चर्यों
1. ताजमहल - आगरा, उत्तर प्रदेश, भारत (एडी 1632)
2. चिचेन इत्जा - युकाटन मेक्सिको (ई 800)
3. क्राइस्ट द रिडीमर - रियो डी जनेरियो ब्राजील (एडी 1926)
4. कालीज़ीयम - रोम, इटली (ई 70)
चीन के 5. महान दीवार - चीन (ईसा पूर्व 700)
6. माचू पिचू - Cuzco क्षेत्र, पेरू (एडी 1438)
7. पेट्रा -Ma'an प्रशासनिक, जॉर्डन (ईसा पूर्व 312)


New 7 Wonders of the World
1. Taj Mahal — Agra, Uttar Pradesh, India (AD 1632)
2. Chichen Itza — Yucatán Mexico (AD 800)
3. Christ the Redeemer — Rio de Janeiro Brazil (AD 1926)
4. Colosseum — Rome, Italy (AD 70)
5. Great Wall of China — China (BC 700)
6. Machu Picchu — Cuzco Region, Peru (AD 1438)
7. Petra —Ma'an Governorate, Jordan (BC 312)

Top 8 Countries With World’s Fastest Internet

विश्व की तेजी के साथ शीर्ष 8 देशों इंटरनेट!
1. हांगकांग - 65.1Mbps
2. दक्षिण कोरिया - 53.5Mbps
3. जापान - 48.8Mbps
4. रोमानिया - 47.5Mbps
5. सिंगापुर - 45.6Mbps
6. लातविया - 44.6Mbps
7. स्विट्जरलैंड - 41.4Mbps
8. इसराइल - 40.1। एमबीपीएस


Top 8 Countries With World’s Fastest Internet!
1. Hong Kong – 65.1Mbps
2. South Korea – 53.5Mbps
3. Japan – 48.8Mbps
4. Romania – 47.5Mbps
5. Singapore – 45.6Mbps
6. Latvia – 44.6Mbps
7. Switzerland – 41.4Mbps
8. Israel – 40.1. Mbps

LIST OF MISS WORLD (1951-2013)

मिस वर्ल्ड की सूची (1951-2013)
मिस वर्ल्ड 1951 - किकी Haakonson, स्वीडन
मिस वर्ल्ड 1952 - मई लुईस Flodin, स्वीडन
मिस वर्ल्ड 1953 - डेनिस Perrier, फ्रांस
मिस वर्ल्ड 1954 - Antigone Costanda, मिस्र
मिस वर्ल्ड 1955 - कारमेन Zubillaga, वेनेजुएला
मिस वर्ल्ड 1956 - पेट्रा SCHURMANN, जर्मनी
मिस वर्ल्ड 1957 - Marita Lindahl, फिनलैंड
मिस वर्ल्ड 1958 - पेनेलोप Coelen, दक्षिण अफ्रीका
मिस वर्ल्ड 1959 - Corine Rottschafer, हॉलैंड
मिस वर्ल्ड 1960 - नोर्मा Cappagli, अर्जेंटीना
मिस वर्ल्ड 1961 - Rosemarie Frankland, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1962 - कैथरिन Lodders, हॉलैंड
मिस वर्ल्ड 1963 - कैरोल क्रॉफर्ड, जमैका
मिस वर्ल्ड 1964 - एन सिडनी, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1965 - लेसली लैंगली, यूनाइटेड किंगडम
मिस वर्ल्ड 1966 - Reita फारिया, भारत
मिस वर्ल्ड 1967 - Madeiline Hartog बेल, पेरू
मिस वर्ल्ड 1968 - पेनेलोप Plummer, ऑस्ट्रेलिया
मिस वर्ल्ड 1969 - ईवा Reuber Staier, ऑस्ट्रिया
मिस वर्ल्ड 1970 - जेनिफर Hosten, ग्रेनाडा
मिस वर्ल्ड 1971 - लूसिया Petterle, ब्राजील
मिस वर्ल्ड 1972 - Belina ग्रीन, ऑस्ट्रेलिय…

Proud to be an Indian

Did you know :

India never invaded any country in last 100000 years of historyChess was invented in IndiaIndia has the largest number of post offices in the worldThe largest employer in india is Indian Railways, over 1 million employeesIndia exports software to 90 countriesAlgebra, Trigonometric & Calculus were originated in IndiaIndian National Kabaddi Team has won all the World CupsMay 26 is celebrated as science day in Switzerland in honour of APJ Kalam who visited Switzerland on that dayIndia has the second largest English speaking population in the worldIndia is the world's largest democracy with 1.2 billion votersThe most number of movies are made in india, approx 1000 every yearBesides the US and Japan, India is the only country to have indegionously built a super computerThe second largest number of scientists and engineers are in indiaUntil 1896 India was the only source for Diamonds
*** Proud to be an Indian ***

Whatsapp geography hindi gk images

Image
WhatsApp geography images in hindi for various competition like ssc, upsc, bpsc and ibps etc.

India's national symbol

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक:-
भारत का राष्ट्रीय चिह्न सारनाथ स्थित अशोक स्तंभ की अनुकृति है जो सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है। भारत सरकार ने यह चिह्न २६ जनवरी १९५० को अपनाया। उसमें केवल तीन सिंह दिखाई पड़ते हैं, चौथा सिंह दृष्टिगोचर नहीं है। राष्ट्रीय चिह्न के नीचे देवनागरी लिपि में 'सत्यमेव जयते' अंकित है।
भारत के राष्ट्रीय झंडे में तीन समांतर आयताकार पट्टियाँ हैं। ऊपर की पट्टी केसरिया रंग की, मध्य की पट्टी सफेद रंग की तथा नीचे की पट्टी गहरे हरे रंग की है। झंडे की लंबाई चौड़ाई का अनुपात 3:2 का है। सफेद पट्टी पर चर्खे की जगह सारनाथ के सिंह स्तंभ वाले धर्मचक्र की अनुकृति है जिसका रंग गहरा नीला है। चक्र का व्यास लगभग सफेद पट्टी के चौड़ाई जितना है और उसमें २४ अरे हैं।
कवि रवींद्रनाथ ठाकुर द्वारा लिखित 'जन-गण-मन' के प्रथम अंश को भारत के राष्ट्रीय गान के रूप में २४ जनवरी १९५० ई. को अपनाया गया। साथ साथ यह भी निर्णय किया गया कि बंकिमचंद्र चटर्जी द्वारा लिखित 'वंदे मातरम्' को भी 'जन-गण-मन' के समान ही दर्जा दिया जाएगा, क्योंकि स्वतंत्रता संग्राम में 'वंदे…

Know about Nightingale ( BULBUL ) in hindi

बुलबुल:-
बुलबुल, शाखाशायी गण के पिकनोनॉटिडी कुल (Pycnonotidae) का पक्षी है और प्रसिद्ध गायक पक्षी "बुलबुल हजारदास्ताँ" से एकदम भिन्न है। ये कीड़े-मकोड़े और फल फूल खानेवाले पक्षी होते हैं। ये पक्षी अपनी मीठी बोली के लिए नहीं, बल्कि लड़ने की आदत के कारण शौकीनों द्वारा पाले जाते रहे हैं। यह उल्लेखनीय है कि केवल नर बुलबुल ही गाता है, मादा बुलबुल नहीं गा पाती है। बुलबुल कलछौंह भूरे मटमैले या गंदे पीले और हरे रंग के होते हैं और अपने पतले शरीर, लंबी दुम और उठी हुई चोटी के कारण बड़ी सरलता से पहचान लिए जाते हैं। विश्व भर में बुलबुल की कुल ९७०० प्रजातियां पायी जाती हैं। इनकी कई जातियाँ भारत में पायी जाती हैं, जिनमें "गुलदुम बुलबुल" सबसे प्रसिद्ध है। इसे लोग लड़ाने के लिए पालते हैं और पिंजड़े में नहीं, बल्कि लोहे के एक (अंग्रेज़ी अक्षर -टी) (T) आकार के चक्कस पर बिठाए रहते हैं। इनके पेट में एक पेटी बाँध दी जाती है, जो एक लंबी डोरी के सहारे चक्कस में बँधी रहती है।
प्रजातियाँ
कई वनीय प्रजातियों को ग्रीनबुल भी कहा जाता है। इनके कुल मुख्यतः अफ़्रीका के अधिकांश भाग तथा मध्य पूर्व,…

Ashfaq ullah Khan Early life

Ashfaq ullah Khan Early life:-
Ashfaq ullah Khan was born on 22 October 1900 in Shahjahanpur, a historical city of Uttar Pradesh. His father, Shafiq Ullah Khan belonged to a Pathan family who was famous for military background. His maternal side was more knowledgeable where so many members had served in the police and administrative services of British India. His mother Mazhoor-Un-Nisa Begum was an extremely pious lady. Ashfaq ullah was the youngest amongst all his four brothers. His elder brother Riyasat Ullah Khan was a class mate of Pandit Ram Prasad Bismil. When Bismil was declared absconder after the Mainpuri Conspiracy, Riyasat used to tell his younger brother Ashafaq about the bravery and shayari Urdu poetry of Bismil. Since then Ashfaq was very keen to meet Bismil, because of his poetic attitude. In 1920, when Bismil came to Shahjahanpur and engaged himself in business Ashfaq tried so many times to contact him but Bismil paid no attention.
In 1922, when Non-cooperation moveme…

Know about Bhagat Singh in Hindi

भगत सिंह:-
(२८ सितम्बर १९०७ से २३ मार्च १९३१)
जन्मस्थल : गाँव बंगा, जिला लायलपुर, पंजाब (अब पाकिस्तान में)
मृत्युस्थल: लाहौर जेल, पंजाब (अब पाकिस्तान में)
आन्दोलन: भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम
प्रमुख संगठन: नौजवान भारत सभा, हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन ऐसोसियेशन, अभिनव भारत
भगत सिंह (जन्म: २८ सितम्बर १९०७, मृत्यु: २३ मार्च १९३१) भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे। भगतसिंह ने देश की आज़ादी के लिए जिस साहस के साथ शक्तिशाली ब्रिटिश सरकार का मुक़ाबला किया, वह आज के युवकों के लिए एक बहुत बड़ा आदर्श है। इन्होंने केन्द्रीय संसद (सेण्ट्रल असेम्बली) में बम फेंककर भी भागने से मना कर दिया। जिसके फलस्वरूप इन्हें २३ मार्च १९३१ को इनके दो अन्य साथियों, राजगुरु तथा सुखदेव के साथ फाँसी पर लटका दिया गया। सारे देश ने उनके बलिदान को बड़ी गम्भीरता से याद किया। पहले लाहौर में साण्डर्स-वध और उसके बाद दिल्ली की केन्द्रीय असेम्बली में चन्द्रशेखर आजाद व पार्टी के अन्य सदस्यों के साथ बम-विस्फोट करके ब्रिटिश साम्राज्य के विरुद्ध खुले विद्रोह को बुलन्दी प्रदान की। इन सभी बम धमाको के लिए उन्होंने वीर सावरकर …

Know about Anandibai Joshi in Hindi

आनंदीबाई जोशी ( India's first lady doctor ):-
पुणे शहर में जन्‍मी आनंदीबाई जोशी (31 मार्च 1865-26 फ़रवरी 1887) पहली भारतीय महिला थीं, जिन्‍होंने डॉक्‍टरी की डिग्री ली थी। जिस दौर में महिलाओं की शिक्षा भी दूभर थी, ऐसे में विदेश जाकर डॉक्‍टरी की डिग्री हासिल करना अपने-आप में एक मिसाल है। उनका विवाह नौ साल की अल्‍पायु में उनसे करीब 20 साल बड़े गोपालराव से हो गया था। जब 14 साल की उम्र में वे माँ बनीं और उनकी एकमात्र संतान की मृत्‍यु 10 दिनों में ही गई तो उन्‍हें बहुत बड़ा आघात लगा। अपनी संतान को खो देने के बाद उन्‍होंने यह प्रण किया कि वह एक दिन डॉक्‍टर बनेंगी और ऐसी असमय मौत को रोकने का प्रयास करेंगी। उनके पति गोपालराव ने भी उनको भरपूर सहयोग दिया और उनकी हौसलाअफजाई की।
आनंदीबाई जोशी का व्‍यक्तित्‍व महिलाओं के लिए प्रेरणास्‍त्रोत है। उन्‍होंने सन् 1886 में अपने सपने को साकार रूप दिया। जब उन्‍होंने यह निर्णय लिया था, उनकी समाज में काफी आलोचना हुई थी कि एक शादीशुदा हिंदू स्‍त्री विदेश (पेनिसिल्‍वेनिया) जाकर डॉक्‍टरी की पढ़ाई करे। लेकिन आनंदीबाई एक दृढ़निश्‍चयी महिला थीं और उन्‍होंने आल…

Know about DR. Rajendra Prasad in Hindi

डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद:-
जन्मतिथि: 3 दिसम्बर 1884
निधन: 28 फ़रवरी 1963
जन्मस्थान: जीरादेई, बिहार
पत्नी: राजवंशी देवी
भारत के राष्ट्रपति
राष्ट्रपति क्रम: पहले राष्ट्रपति
पदभार ग्रहण: 26 जनवरी 1950
सेवामुक्ति: 13 मई 1962
पूर्ववर्ती: कोई नहीं (भारत के तत्कालीन गवर्नर जनरल,
राजाजी के अधीन)
उत्तराधिकारी: सर्वपल्ली राधाकृष्णन
डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद (3 दिसम्बर, 1884 - 28 फरवरी, 1963) भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। वे भारतीय स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से थे जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में प्रमुख भूमिका निभाई। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में भी अपना योगदान दिया था जिसकी परिणति २६ जनवरी १९५० को भारत के एक गणतंत्र के रूप में हुई थी। राष्ट्रपति होने के अतिरिक्त उन्होंने स्वाधीन भारत में केन्द्रीय मन्त्री के रूप में भी कुछ समय के लिए काम किया था। पूरे देश में अत्यन्त लोकप्रिय होने के कारण उन्हें राजेन्द्र बाबू या देशरत्न कहकर पुकारा जाता था।
पूर्वज:-
बाबू राजेन्द्र प्रसाद के पूर्वज मूलरूप से कुआँगाँव, अमोढ़ा (उत्तर प्रदेश) के निवासी थे। यह एक कायस्थ परिवार था…

Know Guljari Lal Nanda in hindi

गुलजारी:लाल नन्दा-
जन्मतिथी: 4 जुलाई, 1898
निधन: 15 जनवरी, 1998
भारत के प्रधानमंत्री
जन्मस्थान: सियालकोट, पंजाब,
पाकिस्तान
प्रधानमंत्री क्रम: दुसरे प्रधानमंत्री
पदभार ग्रहण: 27 मई 1964
सेवामुक्त: 9 जून 1964
पूर्ववर्ती: जवाहर लाल नेहरू
उत्तराधिकारी: लाल बहादूर शास्त्री
द्वितीय कार्यकाल:
पदभार ग्रहण: 11 जनवरी 1966
सेवामुक्त: 24 जनवरी 1966
पूर्ववर्ती: लाल बहादूर शास्त्री
उत्तराधिकारी: इन्दिरा गान्धी
गुलजारीलाल नन्दा (4 जुलाई, 1898 - 15 जनवरी, 1998) भारतीय राजनीतिज्ञ थे। उनका जन्म सियालकोट, पंजाब, पाकिस्तान में हुआ था। वे १९६४ में प्रथम भारतीय प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की मृत्युपश्चात् भारत के प्रधानमंत्री बने। कांग्रेस पार्टी के प्रति समर्पित गुलज़ारी लाल नंदा प्रथम बार पंडित जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु के बाद 1964 में कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाए गए। दूसरी बार लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के बाद 1966 में यह कार्यवाहक प्रधानमंत्री बने। इनका कार्यकाल दोनों बार उसी समय तक सीमित रहा जब तक की कांग्रेस पार्टी ने अपने नए नेता का चयन नहीं कर लिया।
जन्म एवं परिवार:-
नंदाजी के रूप में विख्यात गु…

Know about Dr. Sharma Shankrdyal in hindi

डॉ शंकरदयाल शर्मा :-
भारत के नवें राष्ट्रपति
कार्य काल
२५ जुलाई १९९२ – २५ जुलाई १९९7
उप राष्ट्रपति कोच्चेरी रामण नारायणन
पूर्ववर्ती रामस्वामी वेंकटरमण
उत्तरावर्ती कोच्चेरी रामण नारायणन
जन्म १९ अगस्त १९१८
भोपाल, मध्यप्रदेश, भारत
मृत्यु २६ दिसंबर १९९९
नई दिल्ली, भारत
राजनैतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवनसंगी विमला शर्मा
धर्म हिन्दू
डॉ शंकरदयाल शर्मा (१९ अगस्त १९१८- २६ दिसंबर १९९९) भारत के नवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल २५ जुलाई १९९२ से २५ जुलाई १९९७ तक रहा। राष्ट्रपति बनने से पूर्व आप भारत के आठवे उपराष्ट्रपति भी थे, आप भोपाल राज्य के मुख्यमंत्री (1952-1956) रहे तथा मध्यप्रदेश राज्य में कैबिनेट स्तर के मंत्री के रूप में उन्होंने शिक्षा, विधि, सार्वजनिक निर्माण कार्य, उद्योग तथा वाणिज्य मंत्रालय का कामकाज संभाला था। केंद्र सरकार में वे संचार मंत्री के रूप में (1974-1977) पदभार संभाला। इस दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष (1972-1974) भी रहे।
शिक्षा तथा प्रारम्भिक जीवन :-
डॉक्टर शर्मा ने सेंट जान्स कॉलेज आगरा, आगरा कॉलेज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, लखनऊ विश्वविद्यालय, फि…

Know Shrimad Bhagavad Gita in hindi

श्रीमद्भगवद्गीता :-
श्रीमद्भगवद्‌गीता हिन्दुओं के पवित्रतम ग्रन्थों में से एक है। महाभारत के अनुसार कुरुक्षेत्र युद्ध में श्री कृष्ण ने गीता का सन्देश अर्जुन को सुनाया था। यह महाभारत के भीष्मपर्व के अन्तर्गत दिया गया एक उपनिषद् है। इसमें एकेश्वरवाद, कर्म योग, ज्ञानयोग, भक्ति योग की बहुत सुन्दर ढंग से चर्चा हुई है। इसमें देह से अतीत आत्मा का निरूपण किया गया है।
गीता पर भाष्य:-
संस्कृत साहित्य की परम्परा में उन ग्रन्थों को भाष्य (शाब्दिक अर्थ - व्याख्या के योग्य), कहते हैं जो दूसरे ग्रन्थों के अर्थ की वृहद व्याख्या या टीका प्रस्तुत करते हैं। भारतीय दार्शनिक परंपरा में किसी भी नये दर्शन को या किसी दर्शन के नये स्वरूप को जड़ जमाने के लिए जिन तीन ग्रन्थों पर अपना दृष्टिकोण स्पष्ट करना पड़ता था (अर्थात् भाष्य लिखकर) उनमें भगवद्गीता भी एक है (अन्य दो हैं- उपनिषद् तथा ब्रह्मसूत्र)। [1] भगवद्गीता पर लिखे गये प्रमुख भाष्य निम्नानुसार हैं-
गीताभाष्य - आदि शंकराचार्य
गीताभाष्य - रामानुज
गूढार्थदीपिका टीका - मधुसूदन सरस्वती
सुबोधिनी टीका - श्रीधर स्वामी
ज्ञानेश्वरी - संत ज्ञानेश्वर (संस्कृत से गी…

Know about "Quran" in Hindi

क़ुरआन :-
क़ुरान (अरबी : القرآن अल्-क़ुर्-आन्) इस्लाम की पवित्रतम पुस्तक है और इस्लाम की नींव है। इसे परमेश्वर (अल्लाह) ने देवदूत (फ़रिश्ते) जिब्राएल द्वारा हज़रत मुहम्मद को सुनाया था। मुसलमानों का मानना हैं कि क़ुरान ही अल्लाह की भेजी अन्तिम और सर्वोच्च पुस्तक है।
इस्लाम की मान्यताओं के अनुसार क़ुरान का अल्लाह के दूत जिब्रील (जिसे ईसाइयत में गैब्रियल कहते हैं) द्वारा मुहम्मद साहब को सन् ६१० से सन् ६३२ में उनकी मृत्यु तक खुलासा किया गया था। हालाँकि आरंभ में इसका प्रसार मौखिक रूप से हुआ पर पैगम्बर मुहम्मद की मृत्यु के बाद सन् ६३३ में इसे पहली बार लिखा गया था और सन् ६५३ में इसे मानकीकृत कर इसकी प्रतियां इस्लामी साम्राज्य में वितरित की गईं थी। मुसलमानों का मानना है कि ईश्वर द्वारा भेजे गए पवित्र संदेशों के सबसे आख़िरी संदेश कुरान में लिखे गए हैं। इन संदेशों का शुभारम्भ आदम से हुआ था। आदम इस्लामी (और यहूदी तथा ईसाई) मान्यताओं में सबसे पहला नबी (पैगम्बर या पयम्बर) था और इसकी तुलना हिन्दू धर्म के मनु से एक सीमा तक की जा सकती है। जिस प्रकार से हिन्दू धर्म में मनु की संतानों को मानव कहा गया …

Know about Adolf Hitler in Hindi

एडोल्फ हिटलर :-
अडोल्फ हिटलर (२० अप्रैल १८८९ - ३० अप्रैल १९४५) एक प्रसिद्ध जर्मन राजनेता एवं तानाशाह थे। वे "राष्ट्रीय समाजवादी जर्मन कामगार पार्टी" (NSDAP) के नेता थे। इस पार्टी को प्राय: "नाजी पार्टी" के नाम से जाना जाता है। सन् १९३३ से सन् १९४५ तक वह जर्मनी का शासक रहे। हिटलर को द्वितीय विश्वयुद्ध के लिये सर्वाधिक जिम्मेदार माना जाता है। द्वीतिय विश्व युद्ध तब हुआ जब उनके आदेश पर नात्सी सेना ने पोलैंड पर आक्रमण किया। फ्रांस और ब्रिटेन ने पोलैंड को सुरक्षा देने का वादा किया था और वादे के अनुसार उन दोनो ने नात्सी जरमनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी।
रोचक तथ्य :-
यूरोप की धरती पर कत्लेआम मचा कर हिटलर को सबसे ज्यादा क्रूर आदमी के रूप में जाना गया। हिटलर नाम दुष्टता का पर्याय बन गया। प्रथम विश्वयुद्ध में ब्रिटिश सैनिकों ने एक घायल जर्मन सैनिक की जान बख्श दी थी। वह खुशनसीब सैनिक एडोल्फ हिटलर ही था, जिसने चुन-चुन के यहूदियों को कत्लेआम किया। वहीं, सिर्फ चार साल की उम्र में एक पादरी ने हिटलर को डूबने से बचाया था। द्वितीय विश्व युद्ध के यातना गृह के बारे में सभी जानते ह…

Know about Sardar Vallabh Bhai Patel in hindi

सरदार वल्लभ भाई पटेल :-
भारत के उप प्रधानमंत्री
पद बहाल
15 अगस्त 1947 – 15 दिसम्बर 1950
प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु
पूर्वा धिकारी पद सृजन
उत्तरा धिकारी मोरारजी देसाई
गृह मंत्रालय
पद बहाल
15 अगस्त 1947 – 15 दिसम्बर 1950
प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु
पूर्वा धिकारी पद सृजन
उत्तरा धिकारी चक्रवर्ती राजगोपालाचारी
जन्म 31 अक्टूबर 1875
नडियाद, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
मृत्यु 15 दिसम्बर 1950 (उम्र 75)
बॉम्बे, बॉम्बे राज्य, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
बच्चे मणिबेन पटेल, दह्याभाई पटेल
विद्यालय कॉलेज मिडल टेम्पल
पेशा वकालत
सरदार वल्लभ भाई पटेल (31 अक्टूबर, 1875 - 15 दिसम्बर, 1950) (गुजराती: સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ) भारत के स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी एवं स्वतन्त्र भारत के प्रथम गृहमंत्री थे। सरदार पटेल बर्फ से ढंके एक ज्वालामुखी थे। वे नवीन भारत के निर्माता थे। राष्ट्रीय एकता के बेजोड़ शिल्पी थे। वास्तव में वे भारतीय जनमानस अर्थात किसान की आत्मा थे।
भारत की स्वतंत्रता संग्राम मे उनका महत्वपूर्ण योगदान है। भारत की आजादी के बाद वे प्रथम गृह मंत्री और उपप्रधानमंत्…

Know about "Bharat Ratna" in hindi

भारत रत्न सम्मान की जानकारी प्रकार - नागरिक
श्रेणी - सामान्य
स्थापना वर्ष - १९५४
अंतिम अलंकरण - २०१३
कुल अलंकरण - ४३
अलंकरणकर्ता - भारत सरकार
विवरण - सूर्य की प्लैटिनम छवि के संग भारत रत्न देवनागरी लिपि में खुदा हुआ,
एक पीपल के पत्ते पर
प्रथम अलंकृत - सर्वपल्ली राधाकृष्णन
अंतिम अलंकृत - पं.भीमसेन जोशी
सम्मान श्रेणी
कोई नहीं ← भारत रत्न → पद्म विभूषण भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल है। इस सम्मान की स्थापना २ जनवरी १९५४ में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी। अन्य अलंकरणों के समान इस सम्मान को भी नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता। प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान १९५५ में बाद में जोड़ा गया। तत्पश्चात १2 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया। सुभाष चन्द्र बोस को घोषित सम्मान वापस लिए जाने के उपरान्त मरणोपरान्त सम्मान पाने वालों की संख्या ११ मानी जा सकती है। एक वर्ष में अधिकत…

Know about "Padma Vibhushan" respect

पद्म विभूषण सम्मान की जानकारी
प्रकार नागरिक
श्रेणी - सामान्य
स्थापना वर्ष - 1954
प्रथम अलंकरण - 1954
अंतिम अलंकरण - 2008
कुल अलंकरण - 242
अलंकरणकर्ता - भारत सरकार
पूर्व नाम - पद्म विभूषण, पलहा वर्ग
फीता - मध्यम गुलाबी
प्रथम अलंकृत - सत्येन्द्र नाथ बोस व अन्य (1954)
अंतिम अलंकृत - रघुनाथ माशेलकर, बी के एस अयंगार(2014)
पद्म विभूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा उच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिये असैनिक क्षेत्रों में बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है। यह सम्मान भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में की गयी थी। भारत रत्‍न के बाद यह दूसरा प्रतिष्ठित सम्मान है। पद्म विभूषण के बाद तीसरा नागरिक सम्मान पद्म भूषण है। यह सम्मान किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट और उल्लेखनीय सेवा के लिए प्रदान किया जाता है। इसमें सरकारी कर्मचारियों द्वारा की गई सेवाएं भी शामिल हैं।

Know all about Kolkata in HIndi

Image
कोलकाता :-
देश भारत
राज्य पश्चिम बंगाल
ज़िला कलकत्ता †
महापौर बिकाश रंजन भट्टाचार्य
जनसंख्या 7,780,544 (2008 के अनुसार )
• घनत्व 42,057 /किमी2 (1,08,927 /वर्ग मील)
• महानगर - 16
आधिकारिक भाषा(एँ) बांग्ला, अंग्रेज़ी
क्षेत्रफल 185 km² (71 sq mi)
• ऊँचाई (AMSL) 9 मीटर (30 फी॰)
बंगाल की खाड़ी के शीर्ष तट से १८० किलोमीटर दूर हुगली नदी के बायें किनारे पर स्थित कोलकाता (बांग्ला: কলকাতা ) (पुराना नाम कलकत्ता) पश्चिम बंगाल की राजधानी है। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा महानगर तथा पाँचवा सबसे बड़ा बन्दरगाह है। यहाँ की जनसंख्या २ करोड २९ लाख है। इस शहर का इतिहास अत्यंत प्राचीन है। इसके आधुनिक स्वरूप का विकास अंग्रेजो एवं फ्रांस के उपनिवेशवाद के इतिहास से जुड़ा है। आज का कोलकाता आधुनिक भारत के इतिहास की कई गाथाएँ अपने आप में समेटे हुए है। शहर को जहाँ भारत के शैक्षिक एवं सांस्कृतिक परिवर्तनों के प्रारम्भिक केन्द्र बिन्दु के रूप में पहचान मिली है वहीं दूसरी ओर इसे भारत में साम्यवाद आंदोलन के गढ़ के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। महलों के इस शहर को 'सिटी ऑफ़ जॉय' के नाम से भी जाना जाता है।
अपनी उ…

Small notes on "SWADHINTA" (Liberty)

स्वाधीनता या लिबर्टी (Liberty) से आशय व्यक्ति द्वारा अपने क्रियाकलापों का स्वयं द्वारा नियंत्रण से है। स्वाधीनता के बहुत से काँसेप्ट दिये गये हैं जिनमें व्यक्ति का समाज के साथ सम्बन्धों को भिन्न-भिन्न प्रकार से पारिभाषित किया गया

Swami Vivekanand speech in America in hindi

Image
स्वामी विवेकानन्द :-
सम्मलेन भाषण :-
मेरे अमरीकी भाइयो और बहनों!
आपने जिस सौहार्द और स्नेह के साथ हम लोगों का स्वागत किया हैं उसके प्रति आभार प्रकट करने के निमित्त खड़े होते समय मेरा हृदय अवर्णनीय हर्ष से पूर्ण हो रहा हैं। संसार में संन्यासियों की सबसे प्राचीन परम्परा की ओर से मैं आपको धन्यवाद देता हूँ; धर्मों की माता की ओर से धन्यवाद देता हूँ; और सभी सम्प्रदायों एवं मतों के कोटि कोटि हिन्दुओं की ओर से भी धन्यवाद देता हूँ।
मैं इस मंच पर से बोलने वाले उन कतिपय वक्ताओं के प्रति भी धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ जिन्होंने प्राची के प्रतिनिधियों का उल्लेख करते समय आपको यह बतलाया है कि सुदूर देशों के ये लोग सहिष्णुता का भाव विविध देशों में प्रचारित करने के गौरव का दावा कर सकते हैं। मैं एक ऐसे धर्म का अनुयायी होने में गर्व का अनुभव करता हूँ जिसने संसार को सहिष्णुता तथा सार्वभौम स्वीकृत- दोनों की ही शिक्षा दी हैं। हम लोग सब धर्मों के प्रति केवल सहिष्णुता में ही विश्वास नहीं करते वरन समस्त धर्मों को सच्चा मान कर स्वीकार करते हैं। मुझे ऐसे देश का व्यक्ति होने का अभिमान है जिसने इस पृथ्वी के समस्त ध…

Ashoka's Sinhcturmuk chapiter ( Ashoka stambh)

अशोक का सिंहचतुर्मुख स्तम्भशीर्ष :-
सारनाथ में अशोक ने जो स्तम्भ बनवाया था उसके शीर्ष भाग को सिंहचतुर्मुख कहते हैं। इस मूर्ति में चार भारतीय सिंह पीठ-से-पीठ सटाये खड़े हैं। अशोक स्तम्भ अब भी अपने मूल स्थान पर स्थित है किन्तु उसका यह शीर्ष-भाग सारनाथ के संग्रहालय में रखा हुआ है। यह सिंहचतुर्मुखस्तम्भशीर्ष ही भारत के राष्ट्रीय चिह्न के रूप में स्वीकार किया गया है। इसके आधार के मध्यभाग में स्थित धर्मचक्र को भारत के राष्ट्रीय ध्वज में बीच की सफेद पट्टी में रखा गया है।
भारत के राष्ट्रीय प्रतीक
ध्वज तिरंगा
राष्ट्रीय चिह्न अशोक की लाट
राष्ट्र-गान जन गण मन
राष्ट्र-गीत वन्दे मातरम्
पशु बाघ
जलीय जीव गंगा डालफिन
पक्षी मोर
पुष्प कमल
वृक्ष बरगद
फल आम
खेल मैदानी हॉकी
पञ्चांग शक संवत
संदर्भ "भारत के राष्ट्रीय प्रतीक"
भारतीय दूतावास, लन्दन
Retreived ०३-०९-२००७

Story behind indian flag in Hindi (Tirange ki khani)

तिरंगे का विकास
यह ध्वज भारत की स्वतंत्रता के संग्राम काल में निर्मित किया गया था। १८५७में स्वतंत्रता के पहले संग्राम के समय भारत राष्ट्र का ध्वज बनाने की योजना बनी थी, लेकिन वह आंदोलन असमय ही समाप्त हो गया था और उसके साथ ही वह योजना भी बीच में ही अटक गई थी। वर्तमान रूप में पहुंचने से पूर्व भारतीय राष्ट्रीय ध्वज अनेक पड़ावों से गुजरा है। इस विकास में यह भारत में राजनैतिक विकास का परिचायक भी है।
कुछ ऐतिहासिक पड़ाव इस प्रकार हैं :-
प्रथम चित्रित ध्वज १९०४ में स्वामी विवेकानंद की शिष्या भगिनी निवेदिता द्वारा बनाया गया था। ७ अगस्त, १९०६ को पारसी बागान चौक (ग्रीन पार्क) कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) में इसे कांग्रेस के अधिवेशन में फहराया गया था। इस ध्वज को लाल, पीले और हरे रंग की क्षैतिज पट्टियों से बनाया गया था। ऊपर की ओर हरी पट्टी में आठ कमल थे और नीचे की लाल पट्टी में सूरज और चाँद बनाए गए थे। बीच की पीली पट्टी पर वंदेमातरम् लिखा गया था।
द्वितीय ध्वज को पेरिस में मैडम कामा और १९०७ में उनके साथ निर्वासित किए गए कुछ क्रांतिकारियों द्वारा फहराया गया था। कुछ लोगों की मान्यता के अनुसार यह १९०५ म…

Know about Chetan Anand in Hindi

Image
चेतन आनन्द :-
चेतन आनन्द भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध निर्माता-निर्देशक थे। वह प्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेता देव आनन्द के बड़े भाई थे। १९४९ में उन्होंने अपने भाई देव आनन्द के साथ नवकेतन फ़िल्मस् की स्थापना की जो कि फ़िल्मों का निर्माण करने वाली कम्पनी थी। उनकी छोटी बहन शान्ता कपूर प्रसिद्ध फ़िल्म निर्देशक शेखर कपूर की माँ हैं।
जन्म 3 जनवरी 1921
लाहौर, अब पाकिस्तान[1]
मृत्यु जुलाई 6, 1997 (उम्र 76)
मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
व्यवसाय फ़िल्म निर्माता, निर्देशक, अभिनेता, पटकथा लेखक
सक्रिय वर्ष १९४४-१९९४
Awards :-
1946: Palme d'Or (Best Film), Cannes Film Festival: Neecha Nagar
1965: National Film Award for Second Best Feature Film: Haqeeqat
1982: Filmfare Best Story Award: Kudrat

Know about Cannes Film Festival

कान फ़िल्मोत्सव (Cannes Film Festival )
कान फ़िल्मोत्सव (फ़्रांसिसी: le Festival international du film de Cannes or simply le Festival de Cannes), का प्रारंभ 1939 में हुआ। यह विश्व के सबसे सम्मानजनक फ़िल्म उत्सवों में से एक माना जाता है।
The Cannes International Film Festival (French: Le Festival International du Film de Cannes or just Festival de Cannes) is an annual film festival held in Cannes, France, which previews new films of all genres, including documentaries, from around the world. Founded in 1946, it is one of the most prestigious and publicised film festivals in the world. The invitation-only festival is held annually (usually in May) at the Palais des Festivals et des Congrès.
The 2014 Cannes Film Festival took place between 14–25 May 2014. New Zealand film director Jane Campion was the President of the Jury. Winter Sleep, the movie of Turkish director Nuri Bilge Ceylan won Palme d'Or.
On 1 July 2014, co-founder and former head of French pay-TV operator Canal Plus Pi…

Know about Pandit Ravi Shankar in hindi

Image
पंडित रवि शंकर :-
पंडित रवि शंकर (बांग्ला: রবি শংকর; जन्म : रवीन्द्र शंकर चौधरी, ७ अप्रैल १९२०, बनारस - ११ दिसम्बर २०१२) एक सितार वादक और संगीतज्ञ थे। उन्होंने विश्व के कई मह्त्वपूर्ण संगीत उत्सवों में हिस्सा लिया है। उनके युवा वर्ष यूरोप और भारत में अपने भाई उदय शंकर के नृत्य समूह के साथ दौरा करते हुए बीते।
जन्म - 7 अप्रैल 1920 बनारस, ब्रिटिश भारत
मृत्यु - 11 दिसम्बर 2012 (उम्र 92) सैन डिएगो, संयुक्त राज्य अमेरिका
जीवनसाथी - सुकन्या रजन
शिक्षा :-
रविशंकर ने भारतीय शास्त्रीय संगीत की शिक्षा उस्ताद अल्लाऊद्दीन खाँ से प्राप्त की। अपने भाई उदय शंकर के नृत्य दल के साथ भारत और भारत से बाहर समय गुजारने वाले रविशंकर ने 1938 से 1944 तक सितार का अध्ययन किया और फिर स्वतंत्र तौर से काम करने लगे। बाद में उनका विवाह भी उस्ताद अल्लाऊद्दीन खाँ की बेटी अन्नपूर्णा से हुआ।
जीवन :-
इस दौरान उन्होंने सत्यजीत रे की फिल्मों में संगीत भी दिया। 1949 से 1956 तक उन्होंने ऑल इंडिया रेडियो में बतौर संगीत निर्देशक काम किया। 1960 के बाद उन्होंने यूरोप के दौरे शुरु किये और येहूदी मेन्यूहिन व बिटल्स ग्रूप के जॉर्ज ह…

Know all about A. P. J. Abdul Kalam in HIndi

Image
A. P. J. Abdul Kalam (अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम)
अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम (तमिल: அவுல் பகீர் ஜைனுலாப்தீன் அப்துல் கலாம்; जन्म 15 अक्टूबर, 1931, रामेश्वरम, तमिलनाडु, भारत), जिन्हें डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति हैं। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जानेमाने वैज्ञानिक और अभियंता के रूप में विख्यात हैं।
==================================================
प्रारंभिक जीवन :---->>>>
15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम परिवार में इनका जन्म हुआ | इनके पिता जैनुलाब्दीन न तो ज़्यादा पढ़े-लिखे थे, न ही पैसे वाले थे। इनके पिता मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। अब्दुल कलाम सयुंक्त परिवार में रहते थे। परिवार की सदस्य संख्या का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि यह स्वयं पाँच भाई एवं पाँच बहन थे और घर में तीन परिवार रहा करते थे। अब्दुल कलाम के जीवन पर इनके पिता का बहुत प्रभाव रहा। वे भले ही पढ़े-लिखे नहीं थे, लेकिन उनकी लगन और उनके दिए संस्कार अब्दुल कलाम के…

Varanasi city & history in HIndi

वाराणसी शहर & इतिहास :-
वाराणसी (अंग्रेज़ी: Vārāṇasī, हिन्दुस्तानी उच्चारण: [ʋaːˈɾaːɳəsiː]) भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का प्रसिद्ध शहर है। इसे 'बनारस' और 'काशी' भी कहते हैं। इसे हिन्दू धर्म में सर्वाधिक पवित्र शहर माना जाता है और इसे अविमुक्त क्षेत्र कहा जाता है। इसके अलावा बौद्ध एवं जैन धर्म में भी इसे पवित्र माना जाता है। यह संसार के प्राचीनतम बसे शहरों में से एक और भारत का प्राचीनतम बसा शहर है।
काशी नरेश (काशी के महाराजा) वाराणसी शहर के मुख्य सांस्कृतिक संरक्षक एवं सभी धार्मिक क्रिया-कलापों के अभिन्न अंग हैं। वाराणसी की संस्कृति का गंगा नदी एवं इसके धार्मिक महत्त्व से अटूट रिश्ता है। ये शहर सहस्रों वर्षों से भारत का, विशेषकर उत्तर भारत का सांस्कृतिक एवं धार्मिक केन्द्र रहा है। हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत का बनारस घराना वाराणसी में ही जन्मा एवं विकसित हुआ है। भारत के कई दार्शनिक, कवि, लेखक, संगीतज्ञ वाराणसी में रहे हैं, जिनमें कबीर, वल्लभाचार्य, रविदास, स्वामी रामानंद, त्रैलंग स्वामी, शिवानन्द गोस्वामी, मुंशी प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद, आचार्य रामचंद्र शुक्ल, पंडि…

Hindustani classical music in Hindi

हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत :-
हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत भारतीय शास्त्रीय संगीत के दो प्रमुख आयामों में से एक है। दूसरा प्रमुख आयाम है - कर्नाटक संगीत।
11वीं और 12वीं शताब्दी में मुस्लिम सभ्यता के प्रसार ने भारतीय संगीत की दिशा को नया आयाम दिया। यह दिशा प्रोफेसर ललित किशोर सिंह के अनुसार यूनानी पायथागॉरस के ग्राम व अरबी फ़ारसी ग्राम के अनुरूप आधुनिक बिलावल ठाठ की स्थापना मानी जा सकती है। इससे पूर्व काफी ठाठ शुद्ध मेल था। किंतु शुद्ध मेल के अतिरिक्त उत्तर भारतीय संगीत में अरबी-फ़ारसी अथवा अन्य विदेशी संगीत का कोई दूसरा प्रभाव नहीं पड़ा। "मध्यकालीन मुसलमान गायकों और नायकों ने भारतीय संस्कारों को बनाए रखा।"
राजदरबार संगीत के प्रमुख संरक्षक बने और जहां अनेक शासकों ने प्राचीन भारतीय संगीत की समृद्ध परंपरा को प्रोत्साहन दिया वहीं अपनी आवश्यकता और रुचि के अनुसार उन्होंने इसमें अनेक परिवर्तन भी किए। हिंदुस्तानी संगीत केवल उत्तर भारत का ही नहीं। बांगलादेश और पाकिस्तान का भी शास्त्रीय संगीत है।
अवधारणाएँ :-
श्रुति
राग
मेलकर्ता
सांख्य
स्वर
ताल
मुद्रा

Know about "Flute (basuri)" in Hindi.

Image
बांसुरी काष्ठ वाद्य परिवार का एक संगीत उपकरण है। नरकट वाले काष्ठ वाद्य उपकरणों के विपरीत, बांसुरी एक एरोफोन या बिना नरकट वाला वायु उपकरण है जो एक छिद्र के पार हवा के प्रवाह से ध्वनि उत्पन्न करता है। होर्नबोस्टल-सैश्स के उपकरण वर्गीकरण के अनुसार, बांसुरी को तीव्र-आघात एरोफोन के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
बांसुरीवादक को एक फ्लूट प्लेयर, एक फ्लाउटिस्ट, एक फ्लूटिस्ट, या कभी कभी एक फ्लूटर के रूप में संदर्भित किया जाता है।
बांसुरी पूर्वकालीन ज्ञात संगीत उपकरणों में से एक है। करीब 40,000 से 35,000 साल पहले की तिथि की कई बांसुरियां जर्मनी के स्वाबियन अल्ब क्षेत्र में पाई गई हैं। यह बांसुरियां दर्शाती हैं कि यूरोप में एक विकसित संगीत परंपरा आधुनिक मानव की उपस्थिति के प्रारंभिक काल से ही अस्तित्व में है।

Know about "Aryabhata" in HIndi.

Image
आर्यभट ( Aryabhata, 476-550 ) प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषविद् और गणितज्ञ थे। इन्होंने आर्यभटीय ग्रंथ की रचना की जिसमें ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतों का प्रतिपादन है। इसी ग्रंथ में इन्होंने अपना जन्मस्थान कुसुमपुर और जन्मकाल शक संवत् 398 लिखा है। बिहार में वर्तमान पटना का प्राचीन नाम कुसुमपुर था लेकिन आर्यभट का कुसुमपुर दक्षिण में था, यह अब लगभग सिद्ध हो चुका है।
एक अन्य मान्यता के अनुसार उनका जन्म महाराष्ट्र के अश्मक देश में हुआ था। उनके वैज्ञानिक कार्यों का समादर राजधानी में ही हो सकता था। अतः उन्होंने लम्बी यात्रा करके आधुनिक पटना के समीप कुसुमपुर में अवस्थित होकर राजसान्निध्य में अपनी रचनाएँ पूर्ण की।
जीवनी :->
यद्यपि आर्यभट के जन्म के वर्ष का आर्यभटीय में स्पष्ट उल्लेख है, उनके जन्म के वास्तविक स्थान के बारे में विद्वानों के मध्य विवाद है। कुछ मानते हैं कि वे नर्मदा और गोदावरी के मध्य स्थित क्षेत्र में पैदा हुए थे, जिसे अश्माका के रूप में जाना जाता था और वे अश्माका की पहचान मध्य भारत से करते हैं जिसमे महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश शामिल है, हालाँकि आरंभिक बौद्ध ग्रन्थ अश्मा…

Know about "Eden Gardens" stadium.

Image
इडेन गार्डेंस :-
मैदान की जानकारी
स्थिति -कोलकाता
स्थापना - 1865
दर्शक क्षमता - 90,000
स्वामित्व -भारतीय सेना
संचालक -बंगाल क्रिकेट संघ
Tenants -बंगाल क्रिकेट टीम, कोलकाता नाइट राइडर्स
End names -उच्च न्यायालय छोर
पवेलियन छोर
अंतर्राष्ट्रीय जानकारी
प्रथम टेस्ट- 5 Jan - 8 Jan 1934: भारत v इंग्लैंड
अंतिम टेस्ट - 30 Nov - 4 Dec 2007: भारत v पाकिस्तान
First ODI - 18 Feb 1987: भारत v पाकिस्तान
Last ODI - 8 Feb 2007: भारत v श्रीलंका

Know about "Sambhar Lake" in hindi.

Image
सांभर झील
भारत के राजस्थान राज्य में जयपुर नगर के समीप स्थित यह लवण
जल (खारे पानी) की झील है। यह झील समुद्र तल से 1,200 फुट की ऊँचाई पर स्थित है। जब यह भरी रहती है तब इसका क्षेत्रफल 90 वर्ग मील रहता है। इसमें तीन नदियाँ आकर गिरती हैं। इस झील से बड़े पैमाने पर नमक का उत्पादन किया जाता है। अनुमान है कि अरावली के शिष्ट और नाइस के गर्तों में भरा हुआ गाद (silt) ही नमक का स्रोत है। गाद में स्थित विलयशील सोडियम यौगिक वर्षा के जल में घुसकर नदियों द्वारा झील में पहुँचाता है और जल के वाष्पन के पश्चात झील में नमक के रूप में रह जाता है।
पौराणिक उल्लेख :-
महाकाव्य महाभारत के अनुसार यह क्षेत्र असुर राज वृषपर्व के साम्राज्य का एक भाग था और यहाँ पर असुरों के कुलगुरु शुक्राचार्य निवास करते थे। इसी स्थान पर शुक्राचार्य की पुत्री देवयानी का विवाह नरेश ययाति के साथ सम्पन्न हुआ था। देवयानी को समर्पित एक मंदिर झील के पास स्थित है। अवेध बोरवेल के चलते तथा परवासी परिंदों को सुरक्षित रखने के लिए नरेश कादयान द्वारा जनहित याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर केर दी है। एक अन्य हिंदू मान्यता के अनुसार, शाकम्भरी देवी …

Know about "Mount Everest" in Hindi.

Image
एवरेस्ट पर्वत :- एवरेस्ट पर्वत (नेपाली:सरगमाथा, संस्कृत: देवगिरि) दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है, जिसकी ऊँचाई 8,852 मीटर है। पहले इसे XV के नाम से जाना जाता था। माउंट एवरेस्ट की ऊँचाई उस समय 29,002 फीट या 8,840 मीटर मापी गई। वैज्ञानिक सर्वेक्षणों में कहा जाता है कि इसकी ऊंचाई प्रतिवर्ष 2 से॰मी॰ के हिसाब से बढ़ रही है। नेपाल में इसे स्थानीय लोग सगरमाथा (अर्थात् स्वर्ग का शीर्ष) नाम से जानते हैं, जो नाम नेपाल के इतिहासविद बाबुराम आचार्य ने सन् 1930 के दशक में रखा था - आकाश का भाल। तिब्बत में इसे सदियों से चोमोलंगमा अर्थात पर्वतों की रानी के नाम से जाना जाता है। सर्वे ऑफ नेपाल द्वारा प्रकाशित, (1:50,000 के स्केल पर 57 मैप सेट में से 50वां मैप) “फर्स्ट जॉईन्ट इन्सपेक्सन सर्वे सन् 1979-80, नेपाल-चीन सीमा के मुख्य पाठ्य के साथ अटैच” पृष्ठ पर ऊपर की ओर बीच में, लिखा है, सीमा रेखा, की पहचान की गई है जो चीन और नेपाल को अलग करते हैं, जो ठीक शिखर से होकर गुजरता है। यह यहाँ सीमा का काम करता है और चीन-नेपाल सीमा पर मुख्य हिमालयी जलसं भर विभाजित होकर दोनो तरफ बहता है।

Know about "Devanagari Lipi" in Hindi.

देवनागरी  एक लिपि है जिसमें अनेक भारतीय भाषाएँ तथा कुछ विदेशी भाषाएं लिखीं जाती हैं। देवनागरी बायें से दायें लिखी जाती है, अौर इसकी (साथ ही ज्यादातर उत्तर-भारतीय लिपियों की भी) पहचान एक क्षैतिज रेखा से है। संस्कृत, पालि, हिन्दी, मराठी, कोंकणी, सिन्धी, कश्मीरी, डोगरी, नेपाली, नेपाल भाषा (तथा अन्य नेपाली उपभाषाएँ), तामाङ भाषा, गढ़वाली, बोडो, अंगिका, मगही, भोजपुरी, मैथिली, संथाली आदि भाषाएँ देवनागरी में लिखी जाती हैं। इसके अतिरिक्त कुछ स्थितियों में गुजराती, पंजाबी, बिष्णुपुरिया मणिपुरी, रोमानी और उर्दू भाषाएं भी देवनागरी में लिखी जाती हैं।


देवनागरी लिपि के गुण

एक ध्वनि के लिए एक ही वर्ण संकेत।
एक वर्ण संकेत से अनिवार्यतः एक ही ध्वनि व्यक्त।
जो ध्वनि का नाम वही वर्ण का नाम।
मूक वर्ण नहीं।
जो बोला जाता है वही लिखा जाता है।
एक वर्ण में दूसरे वर्ण का भ्रम नहीं।
उच्चारण के सूक्ष्मतम भेद को भी प्रकट करने की क्षमता।
वर्णमाला ध्वनि वैज्ञानिक पद्धति के बिल्कुल अनुरूप।
प्रयोग बहुत व्यापक (संस्कृत, हिन्दी, मराठी, नेपाली की एकमात्र लिपि)।
भारत की अनेक लिपियों के निकट।







निम्नलिखित स्वर आधुनिक हिन्दी…

Know about Ashoka's Sinhcturmuk chapiter ih hindi

अशोक का सिंहचतुर्मुख स्तम्भशीर्ष :-
सारनाथ में अशोक ने जो स्तम्भ बनवाया था उसके शीर्ष भाग को सिंहचतुर्मुख कहते हैं। इस मूर्ति में चार भारतीय सिंह पीठ-से-पीठ सटाये खड़े हैं। अशोक स्तम्भ अब भी अपने मूल स्थान पर स्थित है किन्तु उसका यह शीर्ष-भाग सारनाथ के संग्रहालय में रखा हुआ है। यह सिंहचतुर्मुखस्तम्भशीर्ष ही भारत के राष्ट्रीय चिह्न के रूप में स्वीकार किया गया है। इसके आधार के मध्यभाग में स्थित धर्मचक्र को भारत के राष्ट्रीय ध्वज में बीच की सफेद पट्टी में रखा गया है।
भारत के राष्ट्रीय प्रतीक
ध्वज तिरंगा
राष्ट्रीय चिह्न अशोक की लाट
राष्ट्र-गान जन गण मन
राष्ट्र-गीत वन्दे मातरम्
पशु बाघ
जलीय जीव गंगा डालफिन
पक्षी मोर
पुष्प कमल
वृक्ष बरगद
फल आम
खेल मैदानी हॉकी
पञ्चांग शक संवत
संदर्भ "भारत के राष्ट्रीय प्रतीक"
भारतीय दूतावास, लन्दन

Know about "Homi Jahangir Baba" in HIndi.

होमी जहांगीर भाभा :
होमी जहांगीर भाभा (30 अक्टूबर, 1909 - 24 जनवरी, 1966) भारत के एक प्रमुख वैज्ञानिक और स्वप्नदृष्टा थे जिन्होंने भारत के परमाणु उर्जा कार्यक्रम की कल्पना की थी। उन्होने मुट्ठी भर वैज्ञानिकों की सहायता से मार्च 1944 में नाभिकीय उर्जा पर अनुसन्धान आरम्भ किया। उन्होंने नाभिकीय विज्ञान में तब कार्य आरम्भ किया जब अविछिन्न शृंखला अभिक्रिया का ज्ञान नहीं के बराबर था और नाभिकीय उर्जा से विद्युत उत्पादन की कल्पना को कोई मानने को तैयार नहीं था। उन्हें 'आर्किटेक्ट ऑफ इंडियन एटॉमिक एनर्जी प्रोग्राम' भी कहा जाता है। भाभा का जन्म मुम्बई के एक सभ्रांत पारसी परिवार में हुआ था। उनकी कीर्ति सारे संसार में फैली। भारत वापस आने पर उन्होंने अपने अनुसंधान को आगे बढ़ाया। भारत को परमाणु शक्ति बनाने के मिशन में प्रथम पग के तौर पर उन्होंने 1945 में मूलभूत विज्ञान में उत्कृष्टता के केंद्र टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआइएफआर) की स्थापना की। डा. भाभा एक कुशल वैज्ञानिक और प्रतिबद्ध इंजीनियर होने के साथ-साथ एक समर्पित वास्तुशिल्पी, सतर्क नियोजक, एवं निपुण कार्यकारी थे। वे ललित क…

Know what is Atom bomb in HIndi?

परमाणु बम :
नाभिकीय अस्त्र या परमाणु बम एक विस्फोटक युक्ति है जिसकी विध्वंशक शक्ति का आधार नाभिकीय अभिक्रिया होती है। यह नाभिकीय संलयन (nuclear fusion) या नाभिकीय विखण्डन (nuclear fission) या इन दोनो प्रकार की नाभिकीय अभिक्रियों के सम्मिलन से बनाये जा सकते हैं। दोनो ही प्रकार की अभिक्रोंके परिणामस्वरूप थोड़े ही सामग्री से भारी मात्रा में उर्जा उत्पन्न होती है। आज का एक हजार किलो से थोड़ा बड़ा नाभिकीय हथियार इतनी उर्जा उत्पन्न कर सकता है जितनी कई अरब किलो के परम्परागत विस्फोटकों से ही उत्पन्न हो सकती है। नाभिकीय हथियार महाविनाशकारी हथियार (weapons of mass destruction) कहे जाते हैं।
द्वितीय विश्वयुद्ध में सबसे अधिक शक्तिशाली विस्फोटक, जो प्रयुक्त हुआ था, उसका नाम 'ब्लॉकबस्टर' (blockbuster) था। इसके निर्माण में तब तक ज्ञात प्रबलतम विस्फोटक ट्राईनाइट्रीटोलीन (TNT) का 11 टन प्रयुक्त हुआ था। इस विस्फोटक से 2000 गुना अधिक शक्तिशाली प्रथम परमाणु बम था जिसका विस्फोट टी. एन. टी. के 22,000 टन के विस्फोट के बराबर था। अब तो प्रथम परमाणु बम से बहुत अधिक शाक्तिशाली परमाणु बम बने हैं।
======…

Know about Chandrasekhar Vedakt Ramn in HIndi.

Image
चन्द्रशेखर वेङ्कट रामन्
चन्द्रशेखर वेङ्कट रामन् (तमिल: சந்திரசேகர வெங்கடராமன்) (November 7, 1888 - November 21, 1 9 70) भारतीय भौतिक-शास्त्री थे। प्रकाश के प्रकीर्णन पर उत्कृष्ट कार्य के लिये वर्ष १९३० में उन्हें भौतिकी का प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार दिया गया। उनका आविष्कार उनके ही नाम पर रामन प्रभाव के नाम से जाना जाता है। १९५४ ई. में उन्हें भारत सरकार द्वारा भारत रत्न की उपाधि से विभूषित किया गया तथा १९५७ में लेनिन शान्ति पुरस्कार प्रदान किया था।
=================================================
परिचय
चन्द्रशेखर वेंकट रामन का जन्म ७ नवम्बर सन्1888 ई. में तमिलनाडु के तिरुचिरापल्‍ली नामक स्थान में हुआ था। आपके पिता चन्द्रशेखर अय्यर एस. पी. जी. कॉलेज में भौतिकी के प्राध्यापक थे। आपकी माता पार्वती अम्मल एक सुसंस्कृत परिवार की महिला थीं। सन् 1892 ई. मे आपके पिता चन्द्रशेखर अय्यर विशाखापतनम के श्रीमती ए. वी.एन. कॉलेज में भौतिकी और गणित के प्राध्यापक होकर चले गए। उस समय आपकी अवस्था चार वर्ष की थी। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा विशाखापत्तनम में ही हुई। वहाँ के प्राकृतिक सौंदर्य और विद्वानों की संगति…