Monday, 7 December 2015

About Polio

करेंट अफेयर्स

पोलियो पुनरावृत्ति रोकने वाला टीका
_____________________________
पोलियो को दोबारा आने से रोकने वाला टीका सरकार ने 30 नवम्बर को जारी कर दिया, जिसका इस्तेमाल पोलियो ड्रॉप पिलाने के साथ-साथ किया जाएगा। इस टीके का उद्देश्य वापस आ सकने वाले घातक वायरस से दोहरी सुरक्षा प्रदान कराना है।

प्रमुख विशेषताएं
_____________________
‘इनेक्टिवेटेड पोलियो वैक्सीन’ नामक इस टीके को सरकार के नियमित प्रतिरक्षण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा ताकि पोलियो की पुनरावृत्ति के खतरे को रोका जा सके।
भारत में बच्चों को पोलियो से दोहरे तौर पर सुरक्षित करने के लिए इस आईपीवी टीके को प्रारंभ में 6 राज्यों—असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश और पंजाब में लाया जा रहा है।
इसके साथ-साथ बच्चों को 5 साल की आयु तक नियमित प्रतिरक्षण और पल्स पोलियो अभियानों के तहत ओपीवी (पोलियो ड्रॉप) मिलना जारी रहेगा।
पोलियो का वायरस हमारे पड़ोसी देशों पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अभी भी सक्रिय है। वहां पोलियो के मामले अभी भी सामने आते हैं, इसलिए के दोबारा आ जाने का खतरा बना रहता है, विशेषकर इन देशों के माध्यम से।
ओपीवी (पोलियो ड्रॉप) का तीसरा डोज लेने के साथ आईपीवी टीका लगवाने के बाद भी बच्चों को 5 साल की उम्र तक नियमित प्रतिरक्षण और पल्स पोलियो अभियानों के तहत ओपीवी डोज देना जारी रखा जाएगा।
देश से टाइप-2 पोलियो के उन्मूलन के साथ सरकार अप्रैल 2016 में टीओपीवी टीके को बीओपीवी टीके से बदलने की दिशा में काम कर रही है और प्रतिरक्षण कार्यक्रम में आईपीवी नामक नए टीके को शामिल करने से इस बदलाव का जोखिम कम हो सकेगा।
भारत को प्रामाणिक तौर पर 27 मार्च 2014 को पोलियोमुक्त देश मान लिया गया था।

0 comments:

Post a Comment