Thursday, 17 March 2016

About Kohinoor diamond

1.💍💎 कोहिनूर डायमंड (Kohinoor diamond)💎💍

💍💎भारत का गौरव कहे जाने वाले कोहिनूर कीबात करें तो ये इस समय ब्रिटेन की महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है।

💍💎कोहिनूर को अकबर से लेकर शाहजहां तक नेपहना, फिर वो लुटकर ईरान चला गया और वापस भारत
आया भी तो अंग्रेज ले गए।

💍💎 कोहिनूर सबसे पहले 12वीं शताब्दी में काकतीय साम्राज्य के पास था।

💍💎जहां वारंगल के एक मंदिर में कोहिनूर हिंदू देवता की आंख के तौर पर मंदिर की शोभा बढ़ा रहा था।

💍💎सबसे पहले वहां से अलाउद्दीन खिलजी के सेनापति मालिक काफूर ने 1310 में इसे लूट लिया और
खिलजी को भेंट कर दिया।

💍💎 इसके बाद इसने दिल्ली सल्तनत के विभिन्न राज्यों की शोभा बढ़ाई।

💍💎बाबर ने 1526 में इब्राहिम लोधी से दिल्ली की सत्ता छीनने के साथ ही इसे भी छीन लिया।

💍💎बाबर के बाद हुमायूं ने इसे ‘बाबर हीरे’ का नाम दिया।

💍💎तब से कोहिनूर मुगल सल्तनत के पास बना रहा।

💍💎मुगल सल्तनत के आखिरी दिनों में इसे ईरानी आक्रमणकारी नादिरशाह ने लूट लिया।

💍💎 जहां से उसे अफगानिस्तान का शासक अमहद शाह दुर्रानी अपने साथ ले गया।

💍💎 इसके बाद उसके उत्तराधिकारी शुजा शाह दुर्रानी ने अफगानिस्तान से भागकर लाहौर आने के बाद शरण
मांगी और कोहिनूर को महाराजा रणजीत सिंह को भेंट कर दिया।

💍💎 कहा जाता है कि महाराजा रणजीत सिंह से छल करके अंग्रेज इसे इंग्लैंड ले गए।

💍💎 लेकिन दूसरी थ्योरी के मुताबिक बताया जाता है कि इसे महाराजा रणजीत सिंह की मौत के बाद उनके
13 वर्षीय वारिस दिलीप सिंह ने अंग्रेजों को भेंट कर दिया

💍💎और फिर इसे महारानी विक्टोरिया के ताज में जड़वा दिया गया और तब ये अंग्रेजोंके पास है।

0 comments:

Post a Comment